Top
Home > Archived > साध्वी को न्याय दिलाने भारत रक्षा मंच ने किया प्रस्ताव पारित

साध्वी को न्याय दिलाने भारत रक्षा मंच ने किया प्रस्ताव पारित

ग्वालियर। मालेगांव में हुएबम धमाकों में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए)द्वारा आरोपी बनाई गई साध्वी पूर्णचेतनगिरी (प्रज्ञा सिंह ठाकुर) को न्याय दिलाने के लिए भारत रक्षा मंच ने प्रस्ताव पारित किया है। भारत रक्षा मंच के राष्ट्रीय अधिवेशन में सर्वसम्मति से पारित हुए प्रस्ताव में कहा गया कि साध्वी के ऊपर अन्याय हो रहा है। इस अन्याय के खिलाफ केंद्र सरकार को ज्ञापन देकर प्रज्ञा को न्याय दिलाने की गुहार लगाई जाएगी। अधिवेशन में मंच के राष्ट्रीय संयोजक सूर्यकांत केलकर, मध्यप्रदेश के पदाधिकारी भगवानराज पांडेय व अन्य पदाधिकारियों उपस्थित थे। बिहार की राजधानी पटना में भारत रक्षा मंच का अधिवेशन आयोजित किया गया था जिसमें आए पदाधिकारियों ने कहा कि प्रज्ञा सिंह ठाकुर लगभग चार साल से उस अपराध में जेल के भीतर काट रही हैं जिसमें उनकी संलिप्तता राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) अब तक ढूंढ ही नहीं पाई है। यही कारण है कि अब तक प्रज्ञा सिंह के खिलाफ न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल नहीं कर सकी है। मंच के पदाधिकारियों ने कहा कि हिरासत के दौरान मानवीय गरिमा को तार-तार करते हुए प्रज्ञा के साथ दुव्र्यवहार किया गया। उल्लेखनीय है कि साध्वी कैंसर से पीडि़त हैं लेकिन पिछली केन्द्र सरकार ने इलाज के लिए उन्हें किसी भी स्तरीय अस्पताल में भर्ती नही कराया । इसके साथ ही प्रस्ताव में मांग की गई है कि देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा ५ करोड़ बांग्लादेशी घुसपैठियों की पहचान कर उन्हें देश से बाहर निकाला जाए।
मालूम हो कि १० अक्टूबर २०१० मुंबई पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते द्वारा गिरफ्तार प्रज्ञा सिंह ठाकुर माले गांव विस्फोट कांड में जेल में बंद हैं। एनआईए ने २२ मई २०१३ को जो आरोपपत्र दायर किया था उसमें साध्वी प्रज्ञा व असीमानंद के नाम नहीं थे। इसके बाद एनआईए ने पूरक आरोप पत्र दायर करने के लिए मुंबई उच्च न्यायालय से वक्त मांग लिया था। इसके अलावा सुनील हत्याकांड में भी पुलिस का कहना था कि प्रज्ञा के खिलाफ सबूत नहीं हैं। एनआईए ने कहा था कि मध्यप्रदेश पुलिस ने इस मामले में गलत लोगों को गिरफ्तार कर लिया था।

Updated : 2014-06-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top