Home > Archived > दिखावे लिए टोपी नहीं पहन सकता: मोदी

दिखावे लिए टोपी नहीं पहन सकता: मोदी

दिखावे लिए टोपी नहीं पहन सकता: मोदी
X

नई दिल्ली। भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने मौलाना द्वारा दी गई टोपी नहीं पहनने पर सफाई देते हुए कहा है कि मैं सभी धर्मों का आदर करता हूं और सिर्फ दिखावे के लिए ये सब नहीं कर सकता। मोदी ने एक निजी चैनल से बातचीत में कई मुद्दों पर अपनी राय रखी। मोदी ने कहा कि अगर टोपी पहनना एकता का प्रतीक है तो मैंने गांधी और नेहरू को तो कभी टोपी पहनते नहीं देखा।
मोदी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के उन आरोपों को झूठा करार दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि किसानों की जमीन को सस्ती दरों पर औद्योगिक घरानों को दे दिया। एक चैनल को दिए इंटरव्यू में मोदी ने कांग्रेस नेताओं खासकर आनंद शर्मा के इस आरोप के बारे में सवाल किया गया था कि उन्होंने इस चुनाव में प्रचार पर कुल 10,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं और इसमें से 90 प्रतिशत पैसा काला धन है।
मोदी ने कहा कि 10,000 करोड़ रुपये बड़ी राशि है। सरकार के पास सभी एजेंसियां हैं उन्हें पूछना चाहिए कि यह किसका पैसा है। यह कहां से आया और यह कहां खर्च किया गया। उन्होंने कहा कि 30 दिन के अंदर जांच कराई जानी चाहिए ताकि देश के सामने सच पेश किया जाए।
2002 में हुए दंगों में मुस्लिम समुदाय के लोगों के मारे जाने के संदर्भ में मोदी ने कुछ दिन पहले टिप्पणी की थी कि अगर गाड़ी के नीचे कुत्ते का बच्चा भी आ जाए तो दुख होता है। इस टिप्पणी पर उठे विवाद पर भी प्रतिक्रिया देते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने किसी को कुत्ते का बच्चाा नहीं कहा था बल्कि केवल अपनी संवेदना को व्यक्त करने के लिए यह बात कही थी। अपने इस तर्क को और पुख्ता तरीके से रखते हुए उन्होंने कहा कि एक कहावत है कि एक चींटी भी मर जाए तो दुख होता है। अब अगर कोई कहे कि मैं इंसान को चींटी कह रहा हूं तो यह उनकी समस्या है।

Updated : 12 April 2014 12:00 AM GMT
Next Story
Top