Top
Home > Archived > हंगामें की भेंट चढ़ा लोकसभा का पहला दिन, कार्यवाही कल तक स्थगित

हंगामें की भेंट चढ़ा लोकसभा का पहला दिन, कार्यवाही कल तक स्थगित

हंगामें की भेंट चढ़ा लोकसभा का पहला दिन,  कार्यवाही कल तक स्थगित

नई दिल्ली। संसद का आखिरी सत्र आज भारी हंगामे के बीच शुरू हुआ। लोकसभा को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। इससे पूर्व, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सभी पक्षों से आग्रह किया कि वे संसद में महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित कराने में सरकार का सहयोग करें। तेलंगाना मुद्दे पर संसद के बाधित होने की संभावना पर एक सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि यह दिक्कतें हैं।
वहीं, वित्तमंत्री पी चिंदबरम ने कहा कि संसद के इस सत्र में कोई विधेयक पारित होने पर शक है। विपक्षी सदस्यों ने सदन में 1984 के सिख दंगे, तेलंगाना और अरुणाचल प्रदेश के एक छात्र की मौत के मामले पर हंगामा किया। इसके बाद संसद को कल तक के लिए स्थगित करना पड़ा। सदन में वीवीआइपी हेलीकॉप्टर घोटाले का मुद्दा भी उठाया गया।
भाजपा ने लोकसभा में अरुणाचल प्रदेश के छात्र नीडो तैनियम की हत्या का मामला उठाया। लोकसभा में भाजपा की नेता विपक्ष सुषमा स्वराज ने अरुणाचल के छात्र की मौत को शर्मनाक बताया है। उन्होंने कहा कि देश की विविधता को समझना होगा। इसके अलावा सुषमा ने मणिपुर की लड़कियों का भी मामला उठाया। उन्होंने कहा कि ये हमारी सात बहने हैं और उन्हें सुरक्षा प्रदान करना हमारा दायित्व है।
सदस्यों के हंगामे के बीच दोनों सदनों में कार्यवाही दोपहर तक के लिए स्थगित करनी पड़ी। लोकसभा में अध्यक्ष मीरा कुमार ने सदन की कार्यवाही शुरू होते ही दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि अर्पित की। लेकिन उन्होंने जैसे ही प्रश्नकाल का आह्वान किया, सदन में हंगामा शुरू हो गया। कुमार ने सदस्यों से बार-बार सदन की कार्यवाही चलने देने की अपील की।
गौरतलब है कि 15वीं लोकसभा का कार्यकाल खत्म होने में अब एक महीने से भी कम का समय बचा है। ऐसे में इस लोकसभा में हुए काम पर नजर डाली जाए तो आजादी के बाद से अब तक केवल 15वीं लोकसभा में ही सबसे कम काम हुआ है।

Updated : 2014-02-05T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top