Home > Archived > आसन पर किसी का दबाव नहीं: महाजन

आसन पर किसी का दबाव नहीं: महाजन

आसन पर किसी का दबाव नहीं: महाजन
X

नई दिल्ली | लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने विपक्ष के परोक्ष रूप से लगाये गये इस आरोप को पूरी तरह खारिज किया कि वह संभवत: किसी दबाव में काम कर रहीं हैं और विपक्ष को उसकी बात नहीं रखने दे रहीं हैं। शून्यकाल के दौरान अध्यक्ष ने कहा कि सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकाजरुन खड़गे ने आसन के बारे में कुछ कहा है और वह स्पष्ट करना चाहेंगी कि वह किसी की बात की अनदेखी नहीं कर रहीं हैं और आसन पर किसी का दबाव नहीं है। इससे पहले खड़गे ने साध्वी निरंजन ज्योति की विवादास्पद टिप्पणी पर प्रधानमंत्री द्वारा सदन में बयान देने की मांग करते हुए कहा कि मैं यह तो नहीं कह सकता कि आप उनके दबाव में ऐसा कर रहीं हैं, लेकिन वातावरण ऐसा है कि हम एक घंटे से अपनी बात रखना चाह रहे हैं लेकिन आपका आशीर्वाद नहीं मिला।
खड़गे ने कहा कि उन्हें दुख इस बात का है कि एक घंटे से विपक्ष अपनी बात रखना चाह रहा है लेकिन उसे अनुमति नहीं मिल रही। लोकतंत्र में ऐसा कैसे चलेगा? कांग्रेस समेत समूचा विपक्ष साध्वी मामले में प्रधानमंत्री से सदन में बयान देने की मांग कर रहा था। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि पहली बात तो यह है कि सदन के कुछ नियम हैं और मुझे उनके अनुसार चलना है। और दूसरा यह कि आप लोगों ने उस विषय पर कोई नोटिस नहीं दिया है जिसे आप उठाने की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि खड़गे ने केंद्रीय उत्पादशुल्क के मामले में नोटिस दिया है लेकिन बात वह कोई और उठाना चाहते हैं।
सुमित्रा ने कहा कि आसन पर किसी का दबाव नहीं है। अध्यक्ष होने के नाते मैं किसी सदस्य की बात की अनदेखी नहीं कर रही हूं। मंत्री ने (साध्वी ने) जब माफी मांग ली तो मामला वहीं समाप्त हो जाता है। प्रश्नकाल स्थगित कर विपक्ष की बात नहीं सुनने और आसन पर दबाव के खड़गे के परोक्ष आरोप पर उन्होंने कहा कि इस प्रकार की टिप्पणियां ना करें तो अच्छा होगा। जब 400 सदस्य मंत्री से उनके प्रश्नों के उत्तर चाहते हैं तो मैं उनकी अनदेखी नहीं कर सकती।

Updated : 2014-12-04T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top