Top
Home > Archived > तानसेन संगीत समारोह आज से

तानसेन संगीत समारोह आज से

तानसेन संगीत समारोह आज से
X

हरिकथा एवं मीलाद गायन से होगा शुभारंभ

ग्वालियर। आज से प्रारंभ हो रहे शास्त्रीय संगीत के सबसे प्रतिष्ठित तानसेन समारोह में इस बार छह सभाएं होंगी। पहली संगीत सभा 12 दिसम्बर को शाम सात बजे आयोजित होगी। इसमें पंडित प्रभाकर कारेकर मुम्बई का गायन आकर्षण का केन्द्र होगा। इससे पूर्व प्रात: साढ़े नौ बजे तानसेन समाधि पर हरिकथा एवं मिलाद का गायन होगा। समारोह में छह सभाएं होगी। पहली 5 सभाएं तानसेन समाधि स्थल पर सजेंगी। अंतिम एवं छठवीं संगीत सभा तानसेन की जन्म स्थली बेहट में झिलमिल नदी के किनारे 15 दिसम्बर को प्रात: काल आयोजित होगी। संगीत सभा की शुरुआत प्रात: 10 बजे और सायंकालीन संगीत सभा की शुरुआत शाम 7 बजे होगी।

प्रदर्शनी लगेगी
12 से 14 दिसम्बर तक तानसेन समाधि परिसर हजीरा पर आलमनामा और हरिकथा के छायाचित्रों का संयोजन रागदारी प्रदर्शनी के अन्तर्गत देखा जा सकता है। वहीं तानसेन कलावीथिका पड़ाव में 14 दिसम्बर को अपरान्ह 3 बजे शरद साठे मुम्बई और एस कालिदादिल्ल द्वारा सोहाहरण व्याख्यान और संगीत घरानों की बंदिशें आयोजित होंगी। कलावीथिका पड़ाव में 12 से 15 दिसम्बर तक रंगसम्भावना ललित कला प्रदर्शनी का आयोजन भी किया गया है।


ये देंगे प्रस्तुतियां
इस वर्ष के तानसेन समारोह की पहली संगीत सभा 12 दिसम्बर को शाम 7 बजे आयोजित होगी। पहली सभा में पार्थो घोष कोलकाता का सितार वादन और रामकुमार मलिग दरभंगा द्वारा ध्रुपद गायन की प्रस्तुति दी जाएगी। पहली सभा माधव संगीत महाविद्यालय ग्वालियर के विद्यार्थियों के ध्रुपद गायन से शुरू होगी। 

Updated : 2014-12-12T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top