Top
Home > Archived > दो दिवसीय दो अभ्यास मैच काफी नहीं हैं: गांगुली

दो दिवसीय दो अभ्यास मैच काफी नहीं हैं: गांगुली

नई दिल्ली | भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले सिर्फ दो अभ्यास मैच काफी नहीं होंगे। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज चार दिसंबर से शुरू होगी। उसके पहले दो दिवसीय दो अभ्यास मैच खेले जाने हैं।
गांगुली ने कहा, ऑस्ट्रेलिया में अच्छे प्रदर्शन के लिए टेस्ट सीरीज से पहले तैयारी जरूरी है, मैचों के बीच में नहीं। मैं पहले टेस्ट से पूर्व सिर्फ दो दिवसीय दो अभ्यास मैचों से खुश नहीं हूं। उन्होंने कहा, इसके मायने हैं कि आपको पहले टेस्ट से पूर्व सिर्फ दो पारियां खेलने को मिलेंगी जो सही नहीं है। विराट कोहली जैसे खिलाड़ी भी तैयारी के लिये कम से कम चार पारियां खेलना चाहते होंगे। विदेशी सरजमीं पर टेस्ट मैचों में भारत के सबसे सफल कप्तान गांगुली ने अपने दौर को याद किया। उन्होंने कहा, ब्रिसबेन में 2004 में ऑस्ट्रेलिया ने 323 रन बनाए और हमने 450 रन बनाए। एडीलेड में हमने 550 और सिडनी में 700 रन बनाये थे। हेडिंग्ले में 2002 में हमने 600 से ज्यादा रन बनाये थे। उस टीम में सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले और वीवीएस लक्ष्मण थे। ये सभी आपको आत्मविश्वास देते हैं कि हम अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। गांगुली ने यह भी कहा कि उन्हें विश्व कप तक भारत की कप्तानी में बदलाव जरूरी नहीं लगता। उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता कि विश्व कप तक किसी बदलाव की जरूरत है। महेंद्र सिंह धोनी विदेश में अपने टेस्ट रिकॉर्ड से चिंतित होंगे लेकिन मुझे नहीं लगता कि सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी की तुलना की जानी चाहिए। उन्होंने कहा, हमने अलग-अलग दौर में कप्तानी की। लेकिन जिस तरह मैने त्रिकोणीय सीरीज फाइनल, चैम्पियंस ट्रॉफी फाइनल और विश्व कप फाइनल में टीम को जीत दिलाई, उसी तरह धोनी ने भी कई बड़े फाइनल जीते।

Updated : 2014-11-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top