Latest News
Home > Archived > बोनस अंक दिए, तो योग्य शिक्षक हो जाएंगे वंचित

बोनस अंक दिए, तो योग्य शिक्षक हो जाएंगे वंचित

श्योपुर। हाल ही में शिक्षा मंत्री पारस जैन द्वारा संविदा शिक्षकों की पात्रता परीक्षा में प्रत्येक वर्ष के अनुभव आधार पर बोनस अंक प्रदाय किए जाने की घोषणा की गई थी, जिसके खिलाफ संविदा शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा के आवेदकों ने मोर्चा खोल दिया है तथा इसे रोके जाने की मांग को लेकर प्रदेश मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन जिला कलेक्टर को सौंपा है।
ज्ञापन में बताया गया है कि शिक्षकों के अतिरिक्त शिक्षकों को बोनस अंक दिए जाने का कोई प्रावधान नहीं है। लेकिन शिक्षा मंत्री जैन ने इस बार अतिथि शिक्षकों को प्रत्येक वर्ष के अध्यापन हेतु 4 अतिरिक्त अंक देने की घोषणा की है। ऐसी स्थिति में अधिक वर्ष तक अतिथि शिक्षक पद रह चुके शिक्षकों का ही चयन होगा तथा योग्य प्रशिक्षित शिक्षक वंचित रह जाएंगे। बताया गया है कि इस संबंध में माननीय उच्च न्यायालय ने चयन परीक्षा में किसी भी प्रकार के अतिरिक्त अंक, अनुभव प्रमाण पत्र तथा चयन परीक्षा में अतिरिक्त अंक ना दिए जाने का आदेश दिया था, बाद इसके शिक्षा मंत्री ने इस आदेश की अवहेलना करते बोनस अंक दिए जाने घोषणा की है। ज्ञापन के माध्यम से संविदा शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा के आवेदकों ने किसी भी प्रकार का भेदभाव करते हुए अतिरिक्त अंक न दिए जाने की मांग की है। मांग करने वालों में लोकेश जांगिड़, मनोज सोनी, गोपाल शर्मा, गणेश मित्तल, आशिष शर्मा, केबलसिंह नागर, पवन कुमार गौतम, विकास अटेरिया, राकेश मीणा सहित अन्य शामिल हंै। 

Updated : 2014-10-15T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top