Top
Home > Archived > हैदराबाद विस्फोटों की जांच में सीसीटीवी की भूमिका महत्वपूर्ण

हैदराबाद विस्फोटों की जांच में सीसीटीवी की भूमिका महत्वपूर्ण

हैदराबाद विस्फोटों की जांच में सीसीटीवी की भूमिका महत्वपूर्ण
X

हैदराबाद | हैदराबाद में हुए दो विस्फोटों की जांच के सम्बंध में पुलिस क्लोज्ड सर्किट टेलीविजन (सीसीटीवी) कैमरा से ली गई तस्वीरों के जरिए एक संदिग्ध का पता लगा रही है। इस घटना में 16 लोगों की जान चली गई थी जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हुए। पुलिस एक सूत्र ने बताया कि जांचकर्ता विस्फोट वाले स्थान दिलसुखनगर के ट्रैफिक सिग्नल में लगे सीसीटीवी कैमरा की तस्वीरों की जांच कर रही है।
माना जा रहा है कि विस्फोटों से कुछ समय पूर्व लगभग 30 साल का एक व्यक्ति इस स्थान पर साइकिल से आया था जिसने एक बैग टांग रखा था।
इस व्यक्ति को कोणार्क सिनेमाघर के सामने आनंद टिफिन सेंटर में विस्फोट से 10 मिनट पहले 6.38 बजे पर पहुंचते देखा गया था। दूसरा विस्फोट कुछ मीटर की दूरी पर 7.01 बजे शाम में हुआ था। दोनों ही विस्फोटक पुरानी साइकिलों पर रखे गए थे।
सीसीटीवी में उसकी तस्वीर साफ नजर नहीं आ रही इसलिए पुलिस विशेषज्ञों की मदद ले रही है।
सूत्रों के मुताबकि सीसीटीवी कैमरा का मुख्य फोकस सड़क पर गतिशील गाड़ियों पर था न कि सड़क के किनारे जहां विस्फोट हुआ था। साइकिल सवार संदिग्ध की तस्वीर जांच अहम सुराग साबित हो सकती है। पुलिस ने शुक्रवार को सदिग्ध की जानकारी देने वाले शख्स को उपयुक्त ईनाम दिए जाने की घोषणा की है। साइबराबाद पुलिस आयुक्त डी. तिरुमाला राव के मुताबिक जानकारी देने वाले शख्स की पहचान गुप्त रखी जाएगी। जांच के अनुसार ईनाम की राशि पांच से 20 लाख रुपये के बीच हो सकती है। इस बीच, आठ घायलों की हालत अभी भी गम्भीर बनी हुई है। घायलों का इलाज उस्मानिया अस्पताल सहित सात अस्पतालों में चल रहा है।



Updated : 2013-02-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top