Top
Home > Archived > हेडली को मिले मौत की सजा

हेडली को मिले मौत की सजा

हेडली को मिले मौत की सजा

नई दिल्ली | आतंकी डेविड हेडली को 35 साल के कारावास की सजा को आंशिक सजा बताते हुए भाजपा ने आज मांग की है कि हेडली का भारत प्रत्यर्पण होना चाहिए, ताकि उस पर यहां की अदालत में मुकदमा चले। पार्टी ने कहा कि 160 से अधिक लोगों की मौत के जिम्मेदार हेडली को मत्युदंड मिलना चाहिए। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि हेडली को सजा दी गई है, शायद उन छह अमेरिकियों की मौत के लिए दी गई है, जो भारतीय धरती पर मारे गये। मुंबई में हुए जघन्य आतंकी हमले में मारे गये बाकी लोगों को न्याय कहां मिला।
उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि हेडली पर अजमल कसाब की ही तरह मुकदमा चले और उसे मृत्युदंड मिले। हम भारत सरकार से मांग करते हैं कि वह हेडली को बिना देरी किये भारत लाये क्योंकि उसने जो अपराध किया है, वह भारत की धरती पर किया गया। विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि सरकार हेडली को सुनाई गई सजा से थोड़ा निराश है तथा 52 वर्षीय इस दोषी को कठोरतम सजा मिलनी चाहिए थी। हेडली को अमेरिकी अदालत ने कल 35 साल कैद की सजा सुनाई थी। खुर्शीद ने हेडली पर भारत में मुकदमा चलाए जाने की मांग पर जोर देते हुए कहा कि संभवत: उसे इस देश में गंभीर एवं कठोर सजा मिलेगी। उन्होंने हालांकि, कहा कि हेडली को सुनाई गई सजा एक शुरुआत है।
विदेश मंत्री ने कहा कि 35 साल की सजा और न्यायाधीश ने जो कहा, वह एक शुरुआत है। हम समझते हैं कि अमेरिका की अपनी कानूनी प्रक्रियाएं हैं, लेकिन फिर भी हम उसका (हेडली) प्रत्यर्पण कराने के अपने आग्रह पर कायम हैं। केन्द्रीय गृह सचिव आर के सिंह ने कहा है कि भारत हेडली के प्रत्यर्पण की मांग करेगा। हेडली का भारत में प्रत्यर्पण होना चाहिए और उस पर भारतीय कानूनों के तहत मुकदमा चले और उसे मृत्युदंड दिया जाए। अमेरिकी जिला न्यायाधीश हैरी लीनेनवेबर ने कल कहा कि हेडली को मौत की सजा देना कहीं ज्यादा आसान था और वह उसी का पात्र भी है।


Updated : 2013-01-25T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top