Latest News
Home > Archived > भोर से ही संगम पर श्रद्घालुओं का तांता

भोर से ही संगम पर श्रद्घालुओं का तांता

भोर से ही संगम पर श्रद्घालुओं का तांता
X


इलाहाबाद।
तीर्थराज प्रयाग में चल रहे महाकुम्भ मेले में डुबकी लगाने के लिए भोर से ही ब़डी संख्या में श्रद्घालु संगम तट पर पहुंचना शुरू हो गए। श्रद्घालु पवित्र संगम में डुबकी लगाकर पूजा-अर्चना से निवृत्त होकर मेला घूमने का आनंद उठा रहे हैं। संगम क्षेत्र में स्त्रान के लिए बनाए गए सभी घाटों पर त़डके पांच बजे से ही श्रद्घालुओं द्वारा स्त्रान का सिलसिला शुरू हो गया। श्रद्घालु जय गंगे मैया का उद्घोष करते हुए डुबकी लगा रहे हैं। डुबकी लगाने के बाद वे पूजा-पाठ और दान-पुण्य कर रहे हैं। मकर संक्रांति के दिन से शुरू हुए महाकुम्भ के नौवें दिन मंगलवार को लगभग पांच लाख श्रद्धालुओं ने तीर्थराज प्रयाग में ब़डे उत्साह से गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम में डुबकी लगाई थी। दसवें दिन भी करीब चार लाख से अधिक श्रद्घालुओं के स्त्रान की सम्भावना है। महाकुम्भ मेले में अब तक देश-विदेश के करीब डेढ़ करो़ड से अधिक श्रद्घालु स्त्रान कर चुके हैं। महाकुम्भ मेले में विभिन्न अख़ाडों और मठों के शिविरों में रोज की तरह भण्डारा और प्रवचन का कार्यक्रम हो रहा है। श्रद्घालु ब़डे उत्साह से सत्संग एवं धर्मिक प्रवचनों में शामिल हो रहे हैं। मेला क्षेत्र में गंदगी न होने पाए इसके लिए समुचित व्यवस्था की गई है। सफाई व्यवस्था के लिए घाटों से लेकर पूरे क्षेत्र में तैनात सफाईकर्मी तत्परता से अपना काम कर रहे हैं। मेला क्षेत्र के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात हैं, जो हर आने वाले व्यक्ति और वाहन की सघन तलाशी ले रहे हैं। सीसीटीवी कैमरों से भी मेला क्षेत्र की क़डी निगरानी की जा रही है। मेला क्षेत्र में तीस पुलिस थाने बनाए गए हैं। यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए ट्रैफिक पुलिस की तैनाती की गई है। उल्लेखनीय है कि प्रयाग में हर 12 साल बाद महाकुम्भ मेला लगता है। इससे पहले यहां वर्ष 2000 में महाकुम्भ मेले का आयोजन हुआ था।


Updated : 2013-01-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top