Latest News
Home > Archived > बीएसएनएल से हो सकती है एक लाख कर्मचारियों की छुट्टी

बीएसएनएल से हो सकती है एक लाख कर्मचारियों की छुट्टी

बीएसएनएल से हो सकती है एक लाख कर्मचारियों की छुट्टी
X

नई दिल्ली | सार्वजनिक क्षेत्र की टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल के एक लाख कर्मचारियों की नौकरी पर खतरे की बादल मंडरा रहे हैं | बीएसएनएल अपने एक लाख कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति स्कीम (वीआरएस) की देना चाहती है ताकि उसका वेतन बोझ कम हो सके। इससे कंपनी को अपना घाटा कम करने में भी मदद मिलेगी। इस कदम से वेतन मद में 10-15 फीसदी की कमी आने की उम्मीद है। फिलहाल कंपनी अपनी आमदनी का 48 फीसदी हिस्सा कर्मचारियों के वेतन पर खर्च कर रही है। बीएसएनएल के एक अधिकारी ने बताया कि इस कंपनी में करीब एक लाख कर्मचारी ज्यादा काम कर रहे हैं अगर वह वीआरएस ले लेते हैं तो कंपनी पर बोझ कुछ कम होगा | इससे खर्च का प्रबंधन करना आसान हो जाएगा| उन्होंने कहा कि एक तो बीएसएनएल में कर्मचारियों की अधिकता है ऊपर से अधिकांश कर्मचारी ज्यादा उम्र के हैं तथा उनमे जरूरी कौशल का अभाव है| उन्होंने कहा, "अधिकतर कर्मचारियों की उम्र 50 के पार है तथा बदलती तकनीक के साथ यह काम करने में कौशल नहीं हैं | अगर ये सभी एक लाख कर्मचारी वीआरएस की पेशकश पर अपनी हामी भर दें तो कंपनी का सैलरी बोझ घटकर महज 10 से 15 फीसदी रह जाएगा।" मालूम हो कि 31 मार्च, 2011 को बीएसएनएल में कुल मिलाकर 2.81 लाख कर्मचारी थे। गौरतलब है कि बीएसएनएल को 2004-05 में 10,183 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था लेकिन इसके बाद इसमें कमी आनी शुरू हो गई थी| वर्ष 2010-11 में इसे 6,384 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। यह घाटा बीएसएनएल को 3जी स्पेक्ट्रम और ब्रॉडबैंड स्पेक्ट्रम पर हुए खर्च तथा कर्मचारियों के बढ़ते वेतन के कारण उठाना पड़ा था|

Updated : 2013-01-21T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top