Latest News
Home > Archived > भारी वर्षा से जन जीवन प्रभावित

भारी वर्षा से जन जीवन प्रभावित

भारी वर्षा से जन जीवन प्रभावित
X


ग्वालियर|
पिछले तीन दिनों से आसमान में छाई काली घटाएं $img_titleउमड़-घुमड़कर कभी रिमझिम, तो कभी झमाझम बारिश कर रही हैं। मंगलवार को भी तीन किश्तों में जोरदार बारिश हुई। भादों के तीसरे दिन रविवार से रुक-रुककर लगातार हो रही बारिश से जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। शहर की निचली और गरीब बस्तियों की हालत बेहद खराब है। घरों, गलियों और सड़कों पर बारिश का पानी भर जाने से जहां लोगों को आने-जाने में परेशानी हो रही है वहीं कच्चे और पुराने घरों में पानी टपकना शुरू हो गया है। यहां बता दें कि रविवार को ग्वालियर शहर में 17.5, सोमवार को 77.0 मि.मी. बारिश हुई थी और मंगलवार को भी 65.2 मि.मी. बारिश दर्ज की गई। इस प्रकार शहर में अब तक 466.9 मि.मी. बारिश दर्ज की जा चुकी है। मौसम के जानकारों के पूर्वानुमान पर भरोसा करें, तो अगले दो दिनों तक बादल थमने वाले नहीं हैं। अगले दो दिनों तक इसी प्रकार झमाझम बारिश के नजारे देखने को मिल सकते हैं। बहरहाल मंगलवार को सुबह से दोपहर तक बादल थमे रहे, लेकिन दोपहर करीब 1:30 बजे के बाद शुरू हुई बूंदाबांदी देखते ही देखते झमाझम बारिश में बदल गई। इस दौरान करीब एक घण्टे तक जमकर बारिश हुई। शाम करीब 4 बजे के बाद बादल अचानक तांश के पत्तों की तरह बिखर गए और सूरज चमकने लगे, लेकिन घड़ी की सुई पांच के अंक को छू पाती, इससे पहले आसमान में फिर से घुमड़ी काली घटाओं ने बरसना शुरू कर दिया। इस दौरान भी करीब एक घण्टे तक जोरदार बारिश हुई। इसके बाद लगभग 15 मिनट की रेस्ट के बाद बादल एक बार फिर बरसे। इस दौरान भी लगभग एक घण्टे तक झमाझम बारिश होती रही। तीन किश्तों में हुई बारिश के बाद मौसम विभाग द्वारा शाम 8:30 बजे तक शहर में 65.2 मि.मी. बारिश दर्ज की गई। मंगलवार को देर रात्रि तक रुक-रुककर रिमझिम बारिश होती रही। मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल के निदेशक डी.पी. दुबे एवं मौसम विज्ञान केन्द्र ग्वालियर के प्रभारी उमाशंकर चौकसे ने बताया कि पंजाब से ग्वालियर और अम्बिकापुर होते हुए बंगाल की खाड़ी तक मानसूनी ट्रफ लाइन पास हो रही है। इसके साथ ही सागर से भोपाल और जबलपुर तक कम दवाब का क्षेत्र भी बना हुआ है। इसी के प्रभाव से पिछले तीन दिनों से ग्वालियर एवं चम्बल संभाग सहित मध्य प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में जोरदार बारिश हो रही है। श्री दुबे ने बताया कि यह मानसूनी सिस्टम आगामी दो दिनों तक प्रभावशील बना रहेगा। इसलिए अगले दो दिनों तक बारिश का क्रम जारी रहने की संभावना है। पिछले तीन दिनों से आसमान में घुमड़ रहीं काली घटाओं और रह-रहकर हो रही झमाझम बारिश के चलते दिन व रात दोनों समय का तापमापी पारा सामान्य से नीचे बना हुआ है। इस कारण गर्मी और उमस का कोई अता-पता नहीं है। मंगलवार को भी दिन का पारा 31.6 डिग्री पर ही ढेर हो गया, जो सामान्य से 0.9 डिग्री कम है। न्यूनतम तापमान भी 23.8 डिग्री पर लुढ़क गया, जो सामान्य से 1.2 डिग्री कम है। इसी प्रकार प्रात: की आर्द्रता 98 प्रतिशत रही, जो शाम को घटकर 92 प्रतिशत रह गई। बुधवार को भी पारा इसी स्तर पर बने रहने की संभावना है। ग्वालियर जिले के ग्रामीण क्षेत्र में भी जोरदार बारिश का क्रम जारी है। मंगलवार को प्रात: 8:30 बजे तक जिले में 458.4 मि.मी. बारिश दर्ज की जा चुकी है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार आज प्रात: 8:30 बजे तक विकास खण्ड घाटीगांव में 358.0, भितरवार मेें 506.0, डबरा में 515.0 एवं विकास खण्ड मुरार में 456.4 मि.मी. बारिश दर्ज की जा चुकी है। 

Updated : 2012-08-08T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top