Top
Home > Archived > हत्या के दोषी गवली को उम्रकैद की सजा

हत्या के दोषी गवली को उम्रकैद की सजा

हत्या के दोषी गवली को उम्रकैद की सजा
X

मुंबई | शिवसेना पार्षद कमलाकर जामसांडेकर की हत्या के मामले में विशेष मको$img_titleका अदालत ने अपराधी से नेता बने अरुण गवली को उम्रकैद की सजा सुनाई है। विशेष मकोका न्यायाधीश ने गवली पर 17 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया, जिसे जमा न करने की सूरत में उसे जेल में तीन साल और बिताने होंगे। गवली के साथ इस मामले में 10 अन्य लोगों को भी उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। एक आरोपी सुनील घाटे सिर्फ शस्त्र अधिनियम में दोषी पाया गया, जिसे तीन साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है। अदालत ने गवली को संगठित अपराध गिरोह का सदस्य होने और जबरन वसूली के मामलों में भी 10-10 साल कैद की सजा सुनाई। न्यायाधीश चव्हाण ने फैसला सुनाते हुए कहा, मौत की बजाय मैं तुम्हें उम्रकैद दे रहा हूं। पार्षद की हत्या करने के लिए गवली ने 30 लाख रुपये की सुपारी ली थी। मकोका कोर्ट में बहस के दौरान अरुण गवली की ओर से दी गई सफाई में कहा गया है कि 2007 के बीएमसी के चुनावों में शिवसेना को समर्थन करने के लिए उनकी पार्टी अखिल भारतीय सेना के चार पार्षदों को काफी पैसे मिले थे, तो फिर वह 30 लाख रुपये के लिए जामसांडेकर की हत्या क्यों करेगा।




Updated : 2012-08-31T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top