Top
Home > Archived > दुष्कर्म को 'बलात्कार' नहीं, कहा जायेगा 'यौन हमला'

दुष्कर्म को 'बलात्कार' नहीं, कहा जायेगा 'यौन हमला'

दुष्कर्म को बलात्कार नहीं, कहा जायेगा यौन हमला
X

नई दिल्ली | महिलाओं के साथ हुए दुष्कर्$img_titleम को 'बलात्कार' नहीं यौन हमला कहा जायेगा. गुरुवार को कैबिनेट ने इसपर मंजूरी दे दी. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने गुरुवार को उस प्रस्ताव पर मंजूरी दे दी जिसमें ‘बलात्कार’ के बजाय ‘यौन हमला’ शब्द का इस्तेमाल किये जाने की बात कही गयी थी. इसी के साथ ही यह साफ हो गया कि अब महिलाओं के साथ हुए दुष्कर्म को बलात्कार नहीं बल्कि 'यौन हमला' कहा जायेगा. खास बात यह है कि इस बदलाव से यह अपराध किसी लिंग विशेष की ओर इंगित नहीं करेगा. कैबिनेट ने देर शाम दिल्ली में हुई बैठक में तेजाब से हमला करने को एक अलग अपराध बनाने और उसके लिए अधिकतम दस साल की सजा रखने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी. संशोधन के जरिए परिभाषा का विस्तार होगा ताकि पुरुषों के खिलाफ होने वाले ‘यौन हमले’ भी उसी कानून के तहत आ सकें जिसमें महिला संबंधित ऐसे अपराध आते हैं.फिलहाल यह अपराध भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के तहत आता है. इसमें एक महिला की इच्छा के बिना उससे संभोग करने पर कहा जाता है कि एक पुरुष ने बलात्कार किया. सवालों के जवाब में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री कृष्णा तीरथ ने कहा कि कैबिनेट ने मसौदा प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान कर दी. उन्होंने कहा कि कैबिनेट ने उनके मंत्रालय के एक अन्य प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान कर दी जिसके तहत किसी भी व्यक्ति के खिलाफ तेजाब से हमले को एक अलग कानून के तहत लाया जाए जिसमें अधिकतम दस साल की सजा होगी.
कृष्णा ने यह भी बताया कि कैबिनेट ने यह भी तय किया कि अपराध दंड संहिता और भादंस की कुछ धाराओं को संशोधित किया जाए जो अल्पवयस्कों की उम्र से संबंधित हैं.

Updated : 2012-07-20T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top