Home > Archived > जनमानस

जनमानस

दर्पण है आचरण

मनुष्य संपूर्ण सुख-शांति और समृद्धि तभी पा सकता है जब वह अपने लिए जैसा चाहता है वैसा ही व्यवहार दूसरों के साथ करे। जब हम आचरण को ही दर्पण मानकर अपना परिष्कार करेंगे तब हममें मानवता से एक कदम आगे देवत्व के गुण विकसित होने लगेंगे। जो इस राह पर चले वे महामानव बनकर अमर हो गए। जितने भी सद्गुण हैं वे सभी हमें मानवता के मार्ग से होते हुए देवत्व की ओर ले जाते हैं। समझदारी, बहादुरी, ईमानदारी और जिम्मेदारी वे चार मजबूत स्तंभ हैं जो हमारे अस्तित्व को कलुषित होने से बचाते हैं। आज के युग में अनेक बाधाओं से गुजरते हुए मनुष्य यदि अपने आपको तमाम दुर्गुणों से बचा ले गया तो यह भी उसके लिए एक उपलब्धि है। जो बातें अब से हजारों साल पहले चलन में थीं, लोगों के आचरण में थीं वे अब असाधारण हो गई हैं। इसका कारण यह है कि हम इनसे दूर होते चले गए और आचरण में न ला सके। हम स्वयं तो गलत आचरण करते हैं और अपने बच्चों और साथियों से अच्छे आचरण की अपेक्षा करते हैं, यह कैसे संभव होगा? ऐसी स्थिति में जब तक हम श्रेष्ठ आचरण के मार्ग पर नहीं चलेंगे तब तक हमसे जुड़े लोग भी उसका अनुसरण नहीं करेंगे।
संदीप पुराणिक, दतिया


Updated : 18 July 2012 12:00 AM GMT
Next Story
Top