Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > देश में मंदी होती तो लोग धोती-कुर्ता पहनकर आते कोट और जैकेट नहीं : सांसद वीरेंद्र सिंह

देश में मंदी होती तो लोग धोती-कुर्ता पहनकर आते कोट और जैकेट नहीं : सांसद वीरेंद्र सिंह

देश में मंदी होती तो लोग धोती-कुर्ता पहनकर आते कोट और जैकेट नहीं : सांसद वीरेंद्र सिंह

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने रविवार को कहा कि लोग कुर्ता और धोती छोड़कर कोट और जैकेट पहनने लगे हैं। इसका मतलब है कि देश में मंदी नहीं है। एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली और विश्वभर में मंदी के चर्चे हैं। अगर सचमुच मंदी होती तो हम सब यहां कोट और जैकेट नहीं बल्कि धोती कुर्ता पहनकर आते। मंदी होती तो हम इतने अच्छे कपड़े नहीं खरीद सकते थे।

उन्होंने आगे कहा कि मैं आपको बताना चाहता हूं कि देश में 6.5 लाख गांव है न कि केवल दिल्ली, मुंबई और हैदराबाद जैसे शहर। महात्मा गांधी, डॉ हेडगेवर, श्यामा प्रसाद मुखर्जी और जयप्रकाश नारायण ने गांवों पर ही भरोसा जताया और देश को आजाद कराया।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस व 19 विपक्षी दलों ने 13 जनवरी को केंद्र सरकार पर भारतीय अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने का आरोप लगाया था।

उन्होंने कहा था कि देश में खतरनाक मंदी है क्योंकि अर्थव्यवस्था पर ध्यान नहीं दिया गया।

कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों ने 6 फरवरी को सरकार पर आर्थिक मंदी की आड़ में कुछ पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आकांक्षी भारत में घृणा फैलाई जा रही है, रोजगार खत्म हो रहे हैं, जीडीपी नीचे गिर रही है और कृषि क्षेत्र में गिरावाट आ रही है। बजट पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि सामाजिक तनाव और आर्थिक विकास एकसाथ नहीं चल सकते। सीएए, एनआरसी और एनपीआर लाकर सरकार अर्थव्यवस्था को गति नहीं दे सकती। समस्या मांग से जुड़ी है, लेकिन सरकार आपूर्ति के माध्यम से समाधान कर रही है। अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस हुआ है और सरकार उसे जुकाम की दवा दे रही है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top