Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > मथुरा > भ्रष्टाचार पर एक्शन: विकास प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर, एग्जीक्यूटिव अभियंता हटाए

भ्रष्टाचार पर एक्शन: विकास प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर, एग्जीक्यूटिव अभियंता हटाए

भ्रष्टाचार पर एक्शन: विकास प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर, एग्जीक्यूटिव अभियंता हटाए

वृंदावन में मोक्षधाम निर्माण में ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष ने पकड़ा था घपला

मथुरा। निर्माण कार्यो की खराब गुणवत्ता, भ्रष्टाचार, शिकायतों के बाद भी जानबूझकर अनदेखी करने पर मुख्यमत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त नाराजगी जताई है। उच्च स्तरीय जांच में इस बात की पुष्टि होने के बाद मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर अजीत प्रताप सिंह, अधिशाषी अभियंता सिविल अमर प्रताप सिंह का तत्काल प्रभाव से तबादला किया गया है।

हम आपको बता दें कि वृंदावन परिक्रमा मार्ग में बन रहे मोक्ष धाम के निर्माण में बेहद घटिया ईंट और निर्माण सामग्री लगाई जा रही थी। इस बात का खुलासा 6 फरवरी को ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्रा के निरीक्षण में हुआ था। दीवार की गुणवत्ता इतनी खराब थी कि वो हाथ लगाते ही भरभराकर गिर पड़ी। इस पर उन्होंने विप्रा के इंजीनियरों से कड़ी नाराजगी जताई।

अफसरों की हठधर्मिता इस स्तर की रही कि उन्होंने मौके पर जाने की जेहमत तक नहीं उठाई। इधर शैलजाकांत मिश्रा ने पूरे मामले की शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की। इस पर लखनऊ और आगरा के अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय जांच समित ने निर्माणाधीन मोक्षधाम का निरीक्षण किया और शिकायतों को सही पाया।

उच्च पदस्थ सूत्र बताते है कि इस समिति की रिपोर्ट के आधार पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दोनों इंजीनियरों को तत्काल प्रभाव से हटाते हुए नए अफसरों की तैनाती की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस एक्शन के बाद निर्माण करने वाली एजेंसियों के अफसरों में हडक़ंप मचा हुआ है। विप्रा के सूत्रों ने बताया कि चीफ इंजीनियर अजीत प्रताप सिंह और अधिशाषी अभियंता अमर प्रताप सिंह को तत्काल प्रभाव से कार्य मुक्त कर दिया गया है।

इंजीनियरों की इस जोड़ी ने मेरठ में भी खिलाए थे गुल, दर्ज हो चुकी है रिपोर्ट

विप्रा में तैनात रहे इंजीनियर अजीत प्रताप सिंह और अमर प्रताप सिंह की जोड़ी मेरठ विकास प्राधिकरण में भी खूब गुल खिला चुकी है। यहां गड़बडिय़ों के पकड़ में आने के बाद तत्कालीन कमिश्नर प्रभात कुमार ने दोनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें अमर प्रताप सिंह जेल भी जा चुके है। ये ही जोड़ी मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण के कार्यों में भी जमकर घालमेल कर रही थी। इसकी लगातार शिकायतों के बाद ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्रा ने ये एक्शन लिया है। अभी कई और अधिकारी भी रडार पर बताए गए है।

सत्यपाल सिंह चीफ, धीरेंद्र वाजपेयी होंगे एक्जीक्यूटिव इंजीनियर

मथुरा। आवास एवं शहरी नियोजन विभाग के संयुक्त सचिव स्वामी नाथ पांडेय के आदेश पत्र के अनुसार मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण के मुख्य अभियंता सत्यपाल सिंह को इसी पद पर मथुरा वृंदावन विकास प्राधिकरण में तैनात किया गया है। वहीं प्रयागराज विकास प्राधिकरण में रहे अधिशाषी अभियंता धीरेंद्र वाजपेयी को मथुरा में इसी पद की जिम्मेदारी दी गई है।

Naveen ( 1230 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top