Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > मथुरा > बढ़े कृषि उत्पादन का लाभ किसानों को मिला: रामनाईक

बढ़े कृषि उत्पादन का लाभ किसानों को मिला: रामनाईक

बढ़े कृषि उत्पादन का लाभ किसानों को मिला: रामनाईक

मथुरा। यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि कृषि में उत्पादन बढ़ रहा है। उसका लाभ किसान को मिलना चाहिये। मत्स्य पालन करने के लिए एक अलग से मंत्रायल बनाया जाएगा। राज्यपाल ने कहा कि किसानों को कर्ज दिए जाने से कृषि और उस पर आधारित उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। सरकार की नीतियों के लिए भी उनका कहना था कि सरकार की नीतियां बजट तक सीमित न रहे उनका लाभ व्यवहार में भी मिलना चाहिए।

ये विचार राज्यपाल राम नाईक ने मंगलवार को पं. दीनदयाल उपाध्याय वेटरनरी यूनिवर्सिटी के पं. दीनदयाल उपाध्याय ऑडीटोरियम और वीर्य उत्पादन प्रयोगशाला एवं वीर्य विश्लेषण प्रमाणिकरण प्रयोगशाला का लोकार्पण करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि यूपी में परिवर्तन हो रहा है। ग्रामीण क्षेत्र में गोवंश के लिये सरकार ने भारी भरकम धनराशि बजट में दी है। गो पालन और किसानों की आय को 2022 तक दोगुना करने का लक्ष्य पीएम नरेंद्र मोदी ने रखा है। आबादी की दृष्टि से विश्व में यूपी का चौथा स्थान है। हमसे आगे चीन, अमेरिका, इंडोनेशिया ही हमसे आगे हैं। जानवरों की संख्या के हिसाब से हम हरियाणा से बहुत पीछे हैं। इसके लिए प्रयास करने होंगे। उन्होंने बताया कि यूपी में 30 करोड़ दुधारू पशु हैं। इनके दूध देने की क्षमता को बढाना है। प्रदेश में 2022 तक 222 टन दूध का उत्पादन करने का लक्ष्य तय किया है। सरकार इसके लिए काफी गंभीर है।

उन्होंने कहा कि कृषि में उत्पादन बढ़ रहा है। उसका लाभ किसान को मिलना चाहिये। 2022 तक किसानों की आय दो गुनी होनी चाहिए। मत्स्य पालन करने के लिए एक अलग से मंत्रालय बनाया जाएगा। राज्यपाल ने कहा कि किसानों को कर्ज दिए जाने से कृषि और उस पर आधारित उधोग को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि यहां के छात्र और शिक्षक कोई शिकायत नहीं करते हैं। उन्हें हर विश्व विद्यालय में शिकायतें मिलती रही हैं। पूरे देश में 75 विश्व विद्यालय हैं। राज्यपाल ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के सिद्धांत का जिक्र करते हुए सभी को लगातार चलते रहने की नसीहत दी। राज्यपाल ने कहा कि हम आबादी में जरूर बड़े हैं लेकिन दूध के उत्पादन में हरियाणा से काफी पिछड़े हुए हैं। किसानों को नई नई तकनीक दी जा रही है। गोवंश के संरक्षण पर कहा कि पहले के दिनों में किसान इनका ख्याल रखते थे। उनका संरक्षण करते थे। बछड़ा होने पर खुशी व्यक्त करते थे लेकिन आज कहानी पलट गई है। अब गोवंश समस्या बन गए हैं। फिरोजाबाद के मॉडल पर कहा कि वहां पर गौशाला तैयार कराई है। उसी मॉडल को प्रदेश के अन्य शहरों में भी लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों को केन्द्र सरकार 6 हजार रुपये देने जा रही है।

कार्यकम में पशुधन मंत्री एसपी सिंह बघेल, महानिदेशक कृषि शिक्षा नरेंद्र सिंह राठौर, पं0 दीनदयाल उपाध्याय वेटनरी विवि के कुलपति डा. केएमएल पाठक, पूर्व सांसद सहकारी बैंक के चेयरमैन तेजवीर सिंह, मेयर डा. मुकेश आर्य बंधु, उत्तर प्रदेश ब्रज विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्र, भाजपा जिलाध्यक्ष नगेन्द्र सिकरवार, पूर्व राज्यमंत्री रविकांत गर्ग, भी उपस्थित थे।

कार्यक्रम में उड़ी स्वच्छता अभियान की धज्जियां

राज्यपाल के कार्यक्रम के बाद विश्व विद्यालय प्रशासन द्वारा जल पान का कार्यक्रम रखा गया था लेकिन इसके लिए पूरे परिसर में कहीं भी कूड़े दान नहीं रखे गए। जिसका नतीजा यह रहा कि लोगों ने जलपान करने बाद खाने के डिब्बों को ग्राउंड में जगह-जगह फैंक दिया। इनको उठाने वाला कोई नहीं था।

Naveen ( 1696 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top