Home > राज्य > अन्य > गौरवी ने 36 किलोमीटर का समुद्री रास्ता किया पार, बोली - पढ़ाई के साथ खेल को मैनेज करना मुश्किल नहीं

गौरवी ने 36 किलोमीटर का समुद्री रास्ता किया पार, बोली - पढ़ाई के साथ खेल को मैनेज करना मुश्किल नहीं

गौरवी ने 36 किलोमीटर का समुद्री रास्ता किया पार, बोली - पढ़ाई के साथ खेल को मैनेज करना मुश्किल नहीं

उदयपुर। इंग्लिश चैनल को पार करने वाली उदयपुर के दिल्ली पब्लिक स्कूल की 11वीं कक्षा की छात्रा गौरवी सिंघवी का कहना है कि लगन और लक्ष्य तय हो तो पढ़ाई के साथ खेल के लिए समय निकालना मुश्किल नहीं है। जब आप जानते हैं कि आपको अपने खेल को बेहतर बनाने के लिए कितना समय देना है, ऐसे में जो समय बचेगा उसी में आपको पढ़ाई करनी होगी। और एक खिलाड़ी को इतना अनुशासन स्वत: लाना होता है कि समय का इस्तेमाल कैसे करना है। वह इधर-उधर की बातों के बजाय अपने दोनों लक्ष्यों पर ही ध्यान केन्द्रित करता है।

23 अगस्त को इंग्लिश चैनल को पार करने का कीर्तिमान बनाकर आई गौरवी गुरुवार सुबह प्रेस से मुखातिब थी। गौरवी ने अपने लक्ष्य को पार करने में माता शुभ - पिता अभिषेक, दादा एमएस सिंघवी -दादी उषा सिंघवी, प्रिंसिपल, शिक्षकों की प्रेरणा को तो मुख्य बताया ही, अपने कोच महेश पालीवाल को उन्होंने प्रेरक बताते हुए कहा कि उन्होंने अभ्यास के दौरान ही कठिन परिस्थितियों से गुजरने के लिए तैयार कर दिया। गौरवी ने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि उनका कोई आइडियल नहीं है। वे अपना रास्ता खुद तैयार करने में विश्वास रखती हैं।

प्रिंसिपल संजय नरवारिया ने कहा कि गौरवी ने स्कूल के अन्य विद्यार्थियों के लिए उदाहरण पेश किया है। उन्होंने गौरवी की एक खूबी और बताई कि वह मोटिवेटर भी है। पढ़ाई में भी वह तेज है और एथलीट भी है। उन्होंने कहा कि गौरवी के लिए स्कूल हर मदद को तैयार रहेगा। उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि स्कूल की कोई भी प्रतिभा हो, स्कूल उसे आगे बढऩे में सदैव सहयोग करता है और करता रहेगा, चाहे वह आर्थिक रूप से हो या संसाधनों के रूप में।

गौरवी के पिता और दादा ने भी कहा कि किसी बच्चे में प्रतिभा है और उसे मदद की जरूरत है तो वे तत्पर रहेंगे। पिता अभिषेक ने कहा कि लंदन में उन्हें वहां के वरिष्ठ लोगों से भी काफी प्रेरणा मिली। बड़े अनुभवी लोग गौरवी के साथ खड़े रहने के लिए और उसे प्रेरित करने, सहयोग करने और आने वाली बाधाओं को पार करने के गुर सिखाने में स्वत: आगे आए। उदयपुर की प्रतिभाओं के लिए गौरवी और पूरा परिवार मार्गदर्शन व सहयोग के लिए तत्पर रहेगा।

गौरतलब है कि गौरवी ने लंदन के डोवर से फ्रांस तक का 36 किलोमीटर का समुद्री रास्ता पार किया जिसे इंग्लिश चैनल कहा जाता है। गौरवी ने इस उपलब्धि को 13 घंटे 28 मिनट तक तैराकी कर प्राप्त किया है। गौरवी बुधवार को ही उदयपुर लौटी है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top