Home > धर्म > जीवन-मंत्र > 45 दिनों के लिए बन रहा है यह योग, जानें उपाय

45 दिनों के लिए बन रहा है यह योग, जानें उपाय

45 दिनों के लिए बन रहा है यह योग, जानें उपाय

ग्वालियर/स्वदेश वेब डेस्क। गृह हमेशा एक दूसरे के साथ युति में आते रहते है ऐसी ग्रहों की युति आगामी 7 मई से 22 जून यानि 45 दिनों के लिए बन रही है। इस परिवर्तन से देश, विदेश और मनुष्यों के जीवन पर शुभ और अशुभ असर दिखेगा। इसमें से अधिकांश समय अनिष्टकारी रहेगा। इस दौरान देश व विदेश में आतंकी घटनाएं तेजी से बढ़ेगी। साथ ही दुनियाभर के व्यापार जगत में उतार चढ़ाव भी देखने को मिलेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी के अनुसार 7 मई को सुबह 6 बजकर 54 मिनट पर मंगल ग्रह वृषभ राशि से निकलकर मिथुन राशि में प्रवेश करेगा । मिथुन राशि में पहले से ही राहु ग्रह विराजमान है। राहु और मंगल की युति से अंगारक योग बनेगा। यह योग 22 जून शनिवार रात्रि 11 बजकर 23 मिनट तक इस राशि में रहेगा। मंगल ग्रह का 45 दिनों दिनों तक मिथुन राशि में रहना 3 अशुभ योगों का निर्माण करेगा। 45 दिन मिथुन राशि में रहने के बाद मंगल ग्रह राशि परिवर्तन कर 23 जून को कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे।

षडाष्टक योग क्या है, जानिए

षडाष्टक योग 7 मई से 22 जून तक रहेगा। षडाष्टक योग अक्रूर माना जाता है। इस दौरान मिथुन राशि में और गुरु वृश्चिक राशि में रहेंगे। मंगल से गुरु छठा और गुरु से मंगल आठवां होने के कारण षडाष्टक योग बनेगा। यह दोष लोगों में सात्विक गुणों का ह्रास करेगा। जिससे लोगों में राजसी एवं तामस गुण का समावेश बढ़ेगा। वहीं जातकों में रोगों की प्रधानता भी बढ़ेगी। शास्त्रों के अनुसार गुरु और मंगल के इस योग के कारण ही भगवान श्रीराम को चौदह वर्ष का वनवास झेलना पड़ा था।

शनि मंगल का समसप्तक योग

मंगल से शनि सप्तम और शनि से मंगल भी सप्तम स्थान में रहने पर समसप्तक योग बन रहा है। शनि व मंगल परस्पर एक दूसरे के समग्रही कहलाते हैं। इस योग के प्रभाव से वाद विवाद दुघर्टनाएं आदि के योग बनेंगे। साथ ही लोगों का बीमारियों पर अधिक खर्चा होगा। राजनीतिक हलचल भी देखने को मिलेगी।

राहु मंगल का अंगारक योग

मिथुन राशि में राहु और मंगल की युति से अंगारक योग बन रहा है। इस योग के प्रभाव से लोगों में क्रोध की प्रधानता देखने को मिलेगी। निर्णय क्षमता में कमी, आगजनी, एक्सीडेंट एवं सीमा पर युद्घ जैसे हालात देखने को मिलेंगे।

यह करें उपाय

ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी के अनुसार ऐसी परिस्थिति में लाल, नीले, काले मटमैले कपड़े 45 दिनों तक नहीं पहने। शिव उपासना के साथ भगवान गणेश एवं हनुमान जी की उपासना करें। दान में मसूर दाल लाल, एवं जामुन, चीकू, खट्टे पदार्थ आदि का दान करें। गाय को हरी घास एवं बूंदी के लड्डू खिलाएं।

इन राशियों के जातकों पर यह रहेगा प्रभाव

मेष राशि- मन में अनजाना भय बना रहेगा।

वृषभ राशि- खर्चो में बढ़ोत्तरी,

मिथुन राशि- क्रोध आएगा, हठधर्मिता में होगी बढ़ोत्तरी।

कर्क राशि-वाणी पर संयम रखें।

सिंह राशि- धन दौलत में वृद्घि होगी।

कन्या राशि- पद प्रतिष्ठा में वृद्घि होगी।

तुला राशि- बहुमूल्य वस्तुओं के नष्ट होने का भय।

वृश्चिक राशि- चोट लगने की संभावना।

धनु राशि- झगड़ों से रखे सावधानी।

मकर राशि- शत्रु बढ़ेंगे।

कुंभ राशि- तर्क वितर्क से बचें।

मीन राशि- शुभ कार्यो में बाधा आएंगी।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top