Home > धर्म > जीवन-मंत्र > लक्ष्मी ने इंद्र को बताई थीं ये बातें, किन लोगों के घर में करती हैं निवास

लक्ष्मी ने इंद्र को बताई थीं ये बातें, किन लोगों के घर में करती हैं निवास

लक्ष्मी ने इंद्र को बताई थीं ये बातें, किन लोगों के घर में करती हैं निवास

नई दिल्ली। हिंदू परिवार में सुख-शांति और लक्ष्मी का वास होना बहुत जरूरी है। लक्ष्मी का वास और सुख-शांति दोनों ही एक-दूसरे के पूरक हैं। यानी जिस घर में सुख-शांति होगी, उस घर में लक्ष्मी का वास भी होगा। कुछ लोग तो अपने घर में लक्ष्मी की कृपा बनाएं रखने के लिए टोटकों का सहारा लेते हैं, लेकिन यह सही नहीं है। महालक्ष्मी किन लोगों के घरों में करती हैं ... मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए पूजा-अर्चना के साथ-साथ हमारे घर का वातावरण भी शुद्ध रहना चाहिए।

-देवी महालक्ष्मी की कृपा से धन और सुख-समृद्धि प्राप्त होती है। लक्ष्मी कृपा के लिए पूजा-अर्चना के साथ-साथ हमारे घर का वातावरण भी शुद्ध रहना चाहिए। लक्ष्मी को कैसा वातावरण चाहिए, इस संबंध में देवी लक्ष्मी और इंद्र की एक कथा प्रचलित है। यहां जानिए उस प्रचलित कथा के आधार पर किन लोगों के घर में लक्ष्मी निवास करती हैं।

-कथा के अनुसार प्राचीन समय में महालक्ष्मी असुरों के यहां निवास करती थीं, लेकिन एक दिन वे देवराज इंद्र के यहां पहुंचीं और उन्होंने कहा कि इंद्र, मैं आपके यहां निवास करना चाहती हूं।

-इंद्र ने आश्चर्य से कहा कि हे देवी, आपतो असुरों के यहां बड़े आदरपूर्वक रहती हैं। वहां आपको कोई कष्ट भी नहीं है। मैंने पूर्व में आपसे कितनी बार निवेदन किया कि आप स्वर्ग पधारें, लेकिन आप नहीं आईं। आज आप बिना बुलाए कैसे मेरे यहां पधारी हैं? कृपया इसका कारण मुझे बताएँ।

-देवी लक्ष्मी ने कहा कि हे इंद्र, कुछ समय पहले असुर भी धर्मात्मा हुआ करते थे, वे अपने सभी कर्तव्य निभाते थे। अब असुर अधार्मिक हो गए हैं। इसीलिए मैं अब वहां नहीं रह सकती हूं।

-जिस स्थान पर प्रेम की जगह ईर्ष्या-द्वेष और क्रोध-कलह आ जाए, अधार्मिक, दुर्गुण और बुरी आदतें आ जाए, वहां मैं नहीं रह सकती। असुरों में ये सब बातें आ गई हैं। इसीलिए उन्हें छोड़कर मैं तुम्हारे यहां रहने आईं हूं।

-तब इंद्र ने पूछा कि देवी वे और कौन-कौन से दोष हैं? जहां आप निवास नहीं करती हैं।

-लक्ष्मीजी ने कहा कि जो लोग विवेक और धर्म की बात नहीं करते हैं, जो ज्ञानी लोगों का अपमान करते हैं, उन लोगों के घर में मैं निवास नहीं करती हूं। जिस घर में पाप, अधर्म, स्वार्थ रहता हैं, वहां लक्ष्मी नहीं रहती है।

-जो लोग गुरु, माता-पिता और बड़ों का सम्मान नहीं करते, लक्ष्मी उनके यहां निवास नहीं करती।

-जो संतान अपने माता-पिता से मुंहजोरी करते हैं, उनका अनादर करते हैं, बिना वजह वाद-विवाद करते हैं, लक्ष्मी ऐसे लोगों पर कृपा नहीं बरसाती।

-महालक्ष्मी ने कहा कि मैं उन लोगों के यहां निवास करती हूं जो धार्मिक हैं। जिस घर के सदस्य पवित्र मन वाले हैं, जो सभी को आदर-सम्मान देते हैं। जिस घर के सदस्य किसी को धोखा नहीं देते, लक्ष्मी उनके यहां निवास करती हैं । जो व्यक्ति दूसरों की मदद करते हैं, गरीबों को दान देते हैं, अपना कार्य पूर्ण ईमानदारी से करते हैं, लक्ष्मी कृपा प्राप्त करते है.

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top