Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > 'अनहद' संगीत समारोह में होगा उत्तर भारत की गायन शैलियों का समन्वय

'अनहद' संगीत समारोह में होगा उत्तर भारत की गायन शैलियों का समन्वय

- 5 व 6 जनवरी को नई दिल्ली के त्रिवेणी कला संगम में आयोजित

अनहद संगीत समारोह में होगा उत्तर भारत की गायन शैलियों का समन्वय

-रसिकों को सुनने को मिलेंगी ख्याति प्राप्त कलाकारों की प्रस्तुतियां

-ध्रुपद और ख्याल गायन के साथ गूंजेंगी सितार की मधुर स्वर लहरियां

नई दिल्ली। भारतीय संगीत के मनीषी दरभंगा घराने के विख्यात ध्रुपद गायक स्व. पं. विदुर मल्लिक जी की स्मृति में दो दिवसीय अ.भा. संगीत समारोह का आयोजन नई दिल्ली में किया जा रहा है। भारतीय शास्त्रीय संगीत को युवाओं तक पहुंचाने के लिए संकल्पित संस्था पं. विदुर मल्लिक ध्रुपद अकाडमी, इलाहाबाद के तत्वाधान में इस दो दिवसीय 'अनहद' संगीत समारोह का आयोजन त्रिवेणी कला संगम, मंडी हाउस में 5 व 6 जनवरी को सांय 6 बजे से किया जाएगा। समारोह में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कलाकार अपनी प्रस्तुति से संगीतप्रेमियों को रसाबोर करेंगे।

अकाडमी के सचिव व ध्रुपद गायक पं. प्रशांत मल्लिक ने बताया कि दिल्ली की संस्था ध्रुवपदम भी इस कार्यक्रम में सम्मिलत है। प्रशांत मल्लिक ने बताया कि अनहद संगीत समारोह में अबतक देश के लगभग सभी प्रतिष्ठित कलाकारों को मंचित किया जा चुका है। पंडित विदुर मल्लिक ध्रुपद अकादमी, इलाहाबाद का यह ग्याहरवां संगीत आयोजन है। बताते चलें कि पं. विदुर मल्लिक ध्रुपद अकाडमी, इलाहाबाद एक गैर लाभकारी संस्था है और ध्रुपद के शिक्षण एवं प्रचार-प्रसार के लिए कार्यरत है।

यह कलाकार देंगे प्रस्तुति

शनिवार 5 जनवरी को पं. ब्रजभूषण गोस्वामी का ध्रुपद गायन, प्रियंका मल्लिक पांडे का ख्याल गायन एवं उस्ताद शाहिद परवेज का सितार वादन। रविवार 6 जनवरी को पं. अनिल चैधरी का पखावज सोलो, उस्ताद इकबाल अहमद खान का ख्याल गायन, पं. प्रेम कुमार, प्रशांत व निशांत मल्लिक तीनों का संयुक्त ध्रुपद गायन होगा।

इनकी रहेगी संगत

पं. मिथलेश झा व बाबर लतीफ खां तबला पर, गौरव शंकर उपाध्याय पखावज पर, घनश्याम सिसौदिया सारंगी, जाकिर धौलपुरी संवादिनी और विवेक प्रजापति, तनवीर अहमद गायन पर साथ देंगे।

इन्होंने कहा

हमारा उद्देश्य ध्रुपद संगीत एवं अन्य शास्त्रीय गायन-वादन विधाओं को प्रचारित एवं जनमानस तक इसके गरिमामयी इतिहास एवं महत्व को आगे लाना है। साथ ही युवाओं को इस कला के प्रति रूचि जागरूक करना हमारा संकल्प है।

पं. प्रेम कुमार मल्लिक, निदेशक पं. विदुर मल्लिक ध्रुपद अकाडमी, इलाहाबाद

Tags:    

Swadesh Digital ( 7125 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top