Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > सुरसा की तरह बढ़ी गत्ता फैक्ट्री में लगी आग, चपेट में आया कार का सर्विस सेंटर

सुरसा की तरह बढ़ी गत्ता फैक्ट्री में लगी आग, चपेट में आया कार का सर्विस सेंटर

शहर के झांसी रोड थाना क्षेत्र में स्थित बाराघाटा औैद्योगिक क्षेत्र में बुधवार की दोपहर गत्ता फैक्ट्री में अचानक आग लग गई।

10 कारें स्वाहा, 11 करोड़ से अधिक का नुकसान

बुलानी पड़ी सेना की गाडिय़ां 8 घंटे में पाया आग पर काबू उसके बाद भी धधकती रही आग

ग्वालियर | शहर के झांसी रोड थाना क्षेत्र में स्थित बाराघाटा औैद्योगिक क्षेत्र में बुधवार की दोपहर गत्ता फैक्ट्री में अचानक आग लग गई। आग ने पास में ही बने कार के सर्विस सेंटर को भी अपनी चपेट में ले लिया। कॉर्टून बनाने वाली गत्ता फैक्ट्री की आग सुरसा की तरह फैली और देखते ही देखते पूरी फैक्ट्री स्वाहा हो गई। आग ने सर्विस सेंटर में रखी 10 कारों को भी निगल लिया। इस हादसे में 11 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान होने का अनुमान है। घटना की सूचना मिलते ही दमकल टीम के अलावा पुलिस तथा प्रशासन के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए । आग की भीषणता का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि आग पर काबू पाने में बीएसएफ की मदद लेना पड़ी साथ ही आसपास के जिलों से भी दमकल वाहनों को बुलाना पड़ा। जिसमें कुल 53 गाडिय़ों ने पानी फैंक कर की आग पर काबू पाया। सुबह ९ बजे लगी आग पर शाम 5.30 बजे काबू पाया गया लेकिन उसके बाद भी मौके पर आग धधकती नजर आई। पुलिस ने आग लगने के कारणों की जांच प्रारंभ कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बाराघाटा इंडस्ट्रियल एरिया में विजय जैन की बाहुबली पैकेजिंग फैक्ट्री है, इसमें गत्ते के बॉक्स बनाने और पॉलीथिन पर प्रिंटिंग का कार्य होता है। सुबह के समय लगभग 9 बजे फैक्ट्री से धुंआ उठता देख कर्मचारियों ने दमकल विभाग को 10 बजकर 20 मिनट पर सूचना दी। लेकिन सूचना देने के बाद भी लगभग 11.15 बजे दमकल विभाग की तीन गाडिय़ां मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक तक गत्ता फैक्ट्री में चारों तरफ आग फैल चुकी थी। जैसे ही दमकल विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे, तो आग देखकर तुरंत कंट्रोल रूम को सूचना दी कि आग बड़ी है गाडिय़ां और भेजी जाएं। जिसके बाद एक-एक कर दर्जनभर से अधिक गाडिय़ां मौके पर पहुंची। वहीं नोडल अधिकारी अतिबल सिंह यादव ने बानमौर, भिंड, मालनपुर, बीएसएफ व एयरफोर्स से दमकल गाडिय़ां मौके पर बुलाईं। दमकल विभाग ने महाराज बाड़ा, रूपसिंह स्टेडियम दमकल कार्यालयोंं से गाडिय़ों को रवाना कर मौके पर भेजा।

जिसके बाद आग पर काबू पाने के संयुक्त प्रयास शुरू किए गए। लेकिन आग कम होने की जगह बढ़ती जा रही थी, आग बुझती नहीं देख कर्मचरियों के माथे पर भी चिंता दिखने लगी। लेकिन शाम 5.30 बजे तक कर्मचारियों ने 80 प्रतिशत आग पर काबू पा लिया था। लेकिन आग देर रात तक धधकती रही और कर्मचारी आग को बुझाते हुए नजर आए। बताया जा रहा है कि आग से गत्ता फैक्ट्री का लगभग 10 करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है। फॉक्सवैगन के सर्विस सेंटर में रखी कारें आईं चपेट में:- आग की लपटें गत्ता फैक्ट्री के शोरूम के पास बने फॉक्सवैगन कारों के सर्विस सेंटर तक जा पहुंची। आग से वहां रखी 6 नई कार व 4 ग्राहकों की कार जलकर खाक हो गर्इं। फॉक्सवैगन के सर्विस सेंटर के संचालक मुकेश अग्रवाल ने बताया कि इस अग्निकांड में एक करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है।

गत्ता फैक्ट्री को किया जमींदोज

आग की लपटें देख आखिर में नगर निगम की जेसीबी मशीनों से गत्ता फैक्ट्री की दीवारों को ढहाया गया। साथ ही इस फैक्ट्री की आग पर काबू पाने के लिए दमकल विभाग ने फॉक्सवैगन के सर्विस सेंटर की आग पर काबू पाया। जिसके बाद छत पर चढ़कर गत्ता फैक्ट्री में पानी फैंका गया।

गत्ते के बनते थे बॉक्स, रोल हुए खाक

फैक्ट्री के अंदर गत्ते के कई रोल रखे हुए थे। इन गत्ते के रोलों से बॉक्स बनाए जाते थे। साथ ही गत्तों पर छपाई का काम भी होता था। प्रिंटिंग के काम होने के चलते फैक्ट्री के अंदर भारी मात्रा में कैमिकल के डिब्बे भी रखे हुए थे। जो आग की चपेट में आ गए, जिससे आग ने विकराल रूप धारण कर लिया।

पेट्रोल डीजल के कारण भड़की आग

सेंटर में सर्विसिंग के लिए आई कई गाडिय़ां खुली थीं, जिससे पेट्रोल और डीजल में आग लग गई धीरे-धीरे आग ने विकराल रुप ले लिया। इससे एक के बाद एक कई गाडिय़ां खाक हो गईं। कर्मचारियों को जब तक गाडिय़ों को हटाने का मौका मिलता, तब तक आग ने कई गाडिय़ों को अपनी चपेट में ले लिया। आग का विकराल रूप देख कर्मचारी भी गाडिय़ों को नहीं बचा पाए।

कारोबारी बोला, मैं बर्बाद हो जाऊंगा, मेरे यहां पानी डालो

जिस समय आग ने गत्ता फैक्ट्री को अपनी चपेट में लिया था, उसी दौरान आग की लपटे फॉक्सवैगन कार के सर्विस सेंटर तक जा पहुंची। यह देख गत्ता फैक्ट्री के संचालक ने दमकल कर्मचारियों से कहा कि पहले मेरी फैक्ट्री की आग बुझाओ, नहीं तो मैं बर्बाद हो जाउंगा। इस दौरान फॉक्सवैगन शोरूम के संचालक मुकेश अग्रवाल व गत्ता फैक्ट्री के संचालक अजय जैन व विजय जैन के बीच विवाद होने लगा, विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों पक्षों के बीच हाथापाई तक होने लगी। बाद में पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामले को शांत करवाया गया।

टैंकरों से भरा दमकल गाडिय़ों में पानी

आग को बुझाने के लिए नगर निगम का दमकल अमला जी जान से जुटा रहा। वहीं दमकल गाडिय़ां खाली होने पर वहां पर पहले से पानी से भरे टैंकरों का पानी दमकल गाडिय़ों में भर गया व आग बुझाने के प्रयास शुरू किए गए। वहीं दमकल विभाग की गाडिय़ों को संकरा इलाका होने के कारण दिक्कतें आईं। तेजी से फैलती आग की लपटों से दमकल कर्मियों को भी खासी परेशानी हुई।






Swadesh Digital ( 9575 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top