Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > निरस्त हो शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया, प्रो. श्रीवास्तव को हटाएं

निरस्त हो शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया, प्रो. श्रीवास्तव को हटाएं

जीवाजी विश्वविद्यालय में व्याप्त समस्याओं एवं गड़बडिय़ों को लेकर भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन ने विवि में उग्र प्रदर्शन किया।

निरस्त हो शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया, प्रो. श्रीवास्तव को हटाएं

भाराछासं के छात्रों एवं कुलसचिव के बीच हुई तीखी बहस

तीन घंटे बाद कुलाधिसचिव ने लिया छात्रों से ज्ञापन

ग्वालियर | जीवाजी विश्वविद्यालय में व्याप्त समस्याओं एवं गड़बडिय़ों को लेकर भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन ने विवि में उग्र प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने विवि में चल रही शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर भी सवाल उठाए और उन्हें निरस्त करने की मांग की। साथ ही कहा कि यह नियुक्ति मप्र लोक सेवा आयोग से कराई जाए। इससे पहले कुलसचिव एवं छात्रों के बीच तीखी बहस हुई और कुलसचिव ने छात्रों से ज्ञापन नहीं लिया और चले गए। करीब तीन घंटे तक छात्र बाहर धरने पर बैठे रहे और अंत में उन्होंने कुलाधिसचिव को ज्ञापन सौंपा।

भाराछासं के छात्रनेता शिवराज यादव के नेतृत्व में सोमवार की दोपहर करीब 1 बजे छात्र प्रशासनिक भवन पहुंचे और प्रदर्शन करने लगे। इस बीच ज्ञापन लेने पहुंचे कुलसचिव एवं छात्रों के बीच बहस हुई। कुलसचिव बिना ज्ञापन लिए वापस चले गए और कहा कि इस तरह मैं अपना अपमान बर्दास्त नहीं कर सकता। उसके बाद करीब 3 घंटे तक कोई भी अधिकारी छात्रों के बीच नहीं पहुंचा। करीब साढ़े तीन बजे कुलाधिसचिव प्रो. आरजे राव छात्रों के बीच पहुंचे तो छात्रों ने उन्हें भी घेर लिया और जमकर खरी-खोटी सुनाई। छात्रों ने कहा कि प्रो. एके श्रीवास्तव प्रवेश समिति के चेयरमैन रहते हुए अपनी रिश्तेदार को फर्जी तरीके से प्रवेश दिलाया था और अब उन्हें फिर से समिति में शामिल कर लिया गया है। उन्हें तत्काल हटाया जाए। विवि में आरक्षण का पालन किए बगैर शिक्षकों की भर्ती चल रही है, जिसे तत्काल रोका जाए। उसके बाद छात्रों ने 16 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा।

प्रमुख मांगें........

- विवि में शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया रोकी जाए और एमपीपीएससी के माध्यम से कराई जाए।

- बीएससी नर्सिंग तृतीय एवं चतुर्थ ईयर के रिजल्ट का रिव्यू कराया जाए।

- लगातार गलती करने वाली कलकत्ता की एजेंसी पर कार्रवाई करें।

- शिक्षकों के कक्षाएं लेने की समय सारणी विभाग में चस्पा की जाए।

- लिफाफे कांड की जांच कराई जाए।

- विभागों की व्यवस्थाएं सुधारी जाएं।

- विवि में भवनों का निर्माण कराया जा रहा है पर छात्रों के प्लेसमेंट एवं उनके भविष्य पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा।

- प्रो. एके श्रीवास्तव ने चेयरमैन रहते हुए फर्जी तरीके से अपनी रिश्तेदार को प्रवेश दिलाया अब उन्हें फिर समिति में रख दिया गया, उन्हें हटाया जाए।

- बैंक से चालान शुल्क जमा करने की प्रक्रिया पुन: शुरू की जाए।

- विवि की टोकन व्यवस्था सुधारें।

- विवि द्वारा शैक्षणिक कैंलेंडर तो जारी किया जाता है पर उस पर सख्ती से अमल नहीं होता, इसे सुधारा जाए।




Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top