Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > मार्च में गर्मी ने तोड़ा पिछले साल का रिकार्ड

मार्च में गर्मी ने तोड़ा पिछले साल का रिकार्ड

मार्च में गर्मी ने तोड़ा पिछले साल का रिकार्ड

पारा 40 के पार, सबसे गर्म रहा शुक्रवार

ग्वालियर/न.सं.। पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं। यह कहावत पिछले दो दिनों से अचानक बढ़ी गर्मी पर सटीक नजर आ रही है। मार्च के अंतिम दिनों में ही गर्मी रिकार्ड तोड़ रही है। शुक्रवार को दिन का तापमान 40 के अंक को पार कर गया। यह न केवल इस सीजन में अब तक का सबसे अधिक तापमान है बल्कि पिछले साल का भी रिकार्ड तोड़ दिया है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि इस साल पिछले सालों से अधिक गर्मी पड़ेगी और मई व जून में तापमान 46 से 47 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है।

शुक्रवार को मौसम शुष्क रहने से सुबह से ही सूरज रौद्र रूप में नजर आया। धूप इतनी तेज थी कि थोड़ी देर भी धूप में खड़ा रहना मुश्किल हो रहा था। गर्मी मई-जून की याद दिला रही थी। गर्मी का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि सुबह 5.30 बजे ही तापमान 20.8 डिग्री सेल्सियस पर था, जबकि पूर्वान्ह 11.30 बजे 36.4, मध्यान्ह 2.30 बजे 40.0 और शाम 5.30 बजे 38.4 डिग्री सेल्सियस पर था। शुक्रवार को केवल दिन का ही नहीं बल्कि रात का तापमान भी इस सीजन में अब तक का सर्वाधिक तापमान दर्ज किया गया। इस दृष्टि से शुक्रवार का दिन और गुरुवार-शुक्रवार की रात इस सीजन में सबसे अधिक गर्म रही। पिछले दो दिनों से तापमान में अचानक आए उछाल के पीछे मौसम विज्ञानी राजस्थान की ओर से आ रहीं गर्म हवाओं को मुख्य वजह बता रहे हैं। शुक्रवार को भी दिन भर छह से आठ किलो मीटर प्रति घण्टे की गति से उत्तर पश्चिमी गर्म हवाएं चलती रहीं। मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल के सेवानिवृत्त मुख्य मौसम विज्ञानी डी.पी. दुबे ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ आ रहा है, लेकिन उसका असर ग्वालियर-चम्बल में नजर नहीं आएगा। हालांकि हल्के बादल आ सकते हैं, लेकिन इसके असर से हवाओं का रुखक बदलकर पश्चिमी हो जाएगा, जिससे तामान में अधिक वृद्धि नहीं होगी, लेकिन ज्यादा गिरावट भी नहीं आएगी।

दोपहर में रही लू की स्थिति

स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 2.6 डिग्री सेल्सियस वृद्धि के साथ 40.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 5.4 डिग्री सेल्सियस अधिक है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार तापमान जब सामान्य से चार से पांच डिग्री सेल्सियस अधिक होता है, तब लू की स्थिति बनती है। चूंकि आज तापमान सामान्य से 5.4 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा, इसलिए दोपहर में लू का असर रहा। मौसम विभाग के अनुसार इससे पहले पिछले साल 2018 में 28 मार्च को अधिकतम तापमान 39.8 और साल 2017 में 17 मार्च को 41.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। आज न्यूनतम तापमान भी 2.0 डिग्री सेल्सियस वृद्धि के साथ 19.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 1.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसी प्रकार सुबह हवा में नमी 51 प्रतिशत दर्ज की गई, जो सामान्य से 11 प्रतिशत अधिक है, जबकि शाम को हवा में नमी घटकर 24 प्रतिशत दर्ज की गई। यह भी सामान्य से 04 प्रतिशत अधिक है।

Naveen ( 0 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top