Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > चार माह से भर्ती हैं जयारोग्य अस्पताल में

चार माह से भर्ती हैं जयारोग्य अस्पताल में

चार माह से भर्ती हैं जयारोग्य अस्पताल में

चिकित्सक होने का फायदा उठा रहे स्नेहालय संचालक

ग्वालियर, न.सं.।

मूक-बधिर महिला के साथ दुष्कर्म, गर्भपात, भू्रण हत्या के बाद चर्चाओं में आए स्नेहालय के संचालक डॉ. वी.के. शर्मा चिकित्सक होने का फायदा उठाते हुए पिछले चार माह से जयारोग्य अस्पताल के सर्जरी विभाग में भर्ती हैं। अस्पताल में उन्हें सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। डॉ. शर्मा अस्पताल में घर की तरह जीवन यापन कर रहे हैं। उन पर चिकित्सक से लेकर पुलिस तक की कोई रोक-टोक नहीं है। दरअसल बिलौआ थाना क्षेत्र के अंतर्गत झांसी रोड पर स्थित स्नेहालय आश्रम में मूक-बधिर महिला के साथ दुष्कर्म का मामला गत वर्ष सितम्बर माह में सामने आया था। उसका गर्भपात कराकर भू्रण को जला दिया गया था। यह मामला कई दिनों तक चर्चा में बना रहा। इस हाई प्रोफाइल मामले में आश्रम के संचालक डॉ. वी.के. शर्मा और उनकी पत्नी सहित अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। आरोपियों को दुष्कर्म, अवैध गर्भपात कराने, साक्ष्य छुपाने के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था, लेकिन डॉ. शर्मा बीमारी की आड़ में पिछले करीब चार माह से जयारोग्य अस्पताल में भर्ती हैं, जहां वे अपने परिजनों से मिलने से लेकर फोन पर बात तक करते हुए नजर आते हैं। गुरुवार को भी सुबह ओपीडी में आरक्षक के सामने ही डॉ. शर्मा मोबाइल से बात करते हुए नजर आए, जहां उनके साथ उनके परिचित लोग भी खड़े हुए थे। इतना ही नहीं, डॉ. शर्मा बिना हथकड़ी के खुलेआम घूमते नजर आते हैं, जबकि कैदियों को हथकड़ी पहनाई जाती है।

सिर्फ 50 दिन ही रहे जेल में

डॉ. शर्मा को डबरा जेल से 25 सितम्बर 2018 को बीमारी के चलते जयारोग्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वह 15 अक्टूबर तक भर्ती रहे। इसके बाद डॉ. शर्मा को दुबारा जयारोग्य अस्पताल से ग्वालियर जेल 16 अक्टूबर 2018 को भेजा गया, जहां करीब 50 दिन रहने के बाद डॉ. शर्मा 4 दिसम्बर 2018 को दुबारा जयारोग्य अस्पताल में भर्ती हो गए, जहां वे अभी तक भर्ती हैं। इससे साफ है कि अस्पताल के चिकित्सक भी उन्हें यहां रखने में पूरी मदद कर रहे हैं। अगर उन्हें कोई गंभीर बीमारी है तो उन्हें दिल्ली के लिए रैफर क्यों नहीं किया जा रहा है?

डेढ़ माह तक रहे प्राइवेट वार्ड में, नहीं हुई कोई कार्रवाई

डॉ. शर्मा को सर्जरी विभाग के चिकित्सक डॉ. सुनील अग्रवाल के अंडर में गत वर्ष दिसम्बर में भर्ती कराया था। यहां डॉ. शर्मा 5 दिसम्बर से सुपर डीलक्स वार्ड नम्बर 13 में भर्ती रह कर उपचार करा रहे थे, लेकिन जब यह मामला मीडिया के सामने आया तो संभाग आयुक्त बी.एम. शर्मा ने अस्पताल अधीक्षक डॉ. मिश्रा के प्रति नाराजगी व्यक्त की थी। इस पर 13 जनवरी की रात को ही आनन-फानन में उन्हें सर्जरी विभाग के जनरल वार्ड में शिफ्ट करा दिया गया था।

इनका कहना है

''यह गंभीर मामला है। डॉ. शर्मा इतने दिनों से अस्पताल में क्यों भर्ती हैं? इसकी जानकारी ली जाएगी।''

-अनुराग चौधरी, जिलाधीश, ग्वालियर

Naveen ( 1696 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top