Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > विकास कार्यों की गति पर लगा विराम मई तक सड़कों पर उड़ती रहेगी धूल

विकास कार्यों की गति पर लगा विराम मई तक सड़कों पर उड़ती रहेगी धूल

विकास कार्यों की गति पर लगा विराम मई तक सड़कों पर उड़ती रहेगी धूल

आरओबी सहित स्मार्ट सिटी के कार्यों पर जिलाधीश लेंगे निर्णय

ग्वालियर, न.सं.

लोकसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता रविवार को लागू हो गई। इसके साथ ही विकास कार्यों की गति पर विराम लग गया है। आचार संहिता के दौरान नए काम शुरू नहीं होंगे और पुरानों के लिए बजट आवंटित नहीं होगा। पूरी प्रशासनिक मशीनरी चुनावी मोड में रहेगी, जबकि जिले में विकास की कई परियोजनाएं अधूरी पड़ी हुई हैं। सालों पुरानी इन योजनाओं को पूरा होने की समय-सीमा कभी की गुजर चुकी है। बावजूद इनका लोकार्पण अब तक नहीं हो पाया है। ऐसे में विकास की ये तस्वीर अब चुनाव बाद ही पूरी हो सकेगी। वर्तमान में स्मार्ट सिटी योजना के तहत कुछ कार्य पूरे होने की स्थिति में हैं, लेकिन आचार संहिता के कारण अब स्मार्ट सिटी के कार्य धरातल पर मई के बाद ही दिखाई दे सकते हैं। केन्द्र सरकार की स्मार्ट सिटी, अमृत योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहर भर में हजारों करोड़ रुपए के विकास कार्य चल रहे हैं, लेकिन लोकसभा चुनाव के कारण ये सभी कार्य थम गए हैं।

जिलाधीश करेंगे निर्णय

स्मार्ट सिटी के जो कार्य पूरे हो चुके हैं, उनको शुरू करना है या नहीं? यह निर्णय अब जिलाधीश को लेना है। उधर पड़ाव आरओबी को लेकर जिलाधीश ने कहा है कि अगर पुल का काम पूरा होगा तो ही उसे शुरू किया जाएगा।

स्मार्ट सिटी में यह होंगे नवीन कार्य

स्मार्ट रोड- स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर में 18 किलोमीटर लम्बी स्मार्ट रोड बनाई जाना है। इस रोड की निर्माण लागत 250 करोड़ रुपए है। महाराज बाड़ा सहित उसके आसपास के पूरे जोन को स्मार्ट पैदल जोन बनाना है। इस कार्य का टेण्डर 100 करोड़ रुपए का है। इसमें महाराज बाड़ा सहित आसपास के पूरे क्षेत्र में वाहनों के प्रवेश को प्रतिबंधित किया जाएगा, साथ ही महाराज बाड़े के आसपास के क्षेत्र में स्मार्ट पार्किंग बनाई जाएंगी।

अमृत योजना पर पड़ेगा असर

अमृत योजना के तहत शहर में जगह-जगह पाइप लाइन डाली जा रही हैं, लेकिन पाइप लाइन डालने के बाद सडक़ों की हालत जर्जर हो चुकी है। बताया जा रहा है कि सड़कों की हालत अब मई तक ऐसी ही रहेगी।

स्मार्ट सिटी ने पूरे किए सात करोड़ के कार्य


स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन ने सात करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट पूरे कर लिए हैं। इनमें पब्लिक बाइक शेयरिंग, शिवाजी पार्क और पर्यटक सूचना केन्द्र शामिल हैं। आचार संहिता लगाने के कारण यह सुविधाएं चालू नहीं हो सकी हैं। स्मार्ट साइकिल चलाने की सुविधा शहरवासियों को 24 घण्टे मिलेगी। स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन ने 25 साइकिल स्टैण्ड तैयार कर लिए हैं। इन पर 200 साइकिलें चलाई जाना हैं।

Naveen ( 1696 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top