Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > नमाज पर जाने के लिए चेम्बर में थाना प्रभारी से भिड़ा था बांग्लादेशी घुसपैठिया

नमाज पर जाने के लिए चेम्बर में थाना प्रभारी से भिड़ा था बांग्लादेशी घुसपैठिया

रमजान माह में नमाज पर जाने के लिए बांग्लादेशी घुसपैठिया थाना प्रभारी से उनके चेम्बर में ही झगड़ा करने पर उतारू हो गया था।

नमाज पर जाने के लिए चेम्बर में थाना प्रभारी से भिड़ा था बांग्लादेशी घुसपैठिया

थाने में स्टाफ से होने लगी पूछताछ

ग्वालियर । रमजान माह में नमाज पर जाने के लिए बांग्लादेशी घुसपैठिया थाना प्रभारी से उनके चेम्बर में ही झगड़ा करने पर उतारू हो गया था। थाना प्रभारी ने घुसपैठिए को बदतमीजी करने पर फटकार लगाई थी। हालांकि बाद में उसे नमाज पर जाने की इजाजत दी थी। यही गलती आफत बन गई और पुलिस अब कठघरे में खड़ी है। रमजान के महीने से पहले बांग्लादेशी घुसपैठिया अहमद अलमक्की ने भागने की तैयारी कर ली थी। तभी एक दिन वह थाना प्रभारी के चेम्बर में पहुंच गया और उनसे कहा कि मुझे नमाज के लिए जाना है। सूत्र बताते है कि थाना प्रभारी ने जब घुसपैठिए से नमाज पर जाने की मना कर दी तो वह उखड़ गया था। इसी बात को लेकर अहमद अलमक्की की थाना प्रभारी से बहस हो गई थी।

बताया गया है कि घुसपैठिया बाहें तानकर अड़ गया था। घुसपैठिए की जिद और हंगामे से थाना प्रभारी को गुस्सा आ गया और उन्होंने उसकी धुनाई कर दी। अहमद अलमक्की ने नाराज होकर खाना छोड़ दिया था। बाद में उसे तीन दिन बाद खाना खिलाया गया। अहमद अलमक्की ने मजिस्द से भागने का प्लान पहले ही तैयार कर लिया था। जब उसे नमाज के लिए ले जाने लगा और ईद नजदीक आने लगी तो वह मौका मिलते ही फरार हो गया।

एजी कार्यालय के पास वाली मस्जिद को इसलिए चुना

एजी कार्यालय के पास वाली मस्जिद में जमात आती हैं। जबकि शहर में स्थित किसी भी मस्जिद में जमातें नहीं आती हैं। इसलिए घुसपैठिए ने भागने के लिए उस मस्जिद को चुना। सूत्रों की माने तो जमात के साथ ही घुसपैठिया निकल गया है।

कहां से आए पैसे

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार घुसपैठिया जब भी बाजार जाता था जमकर पैसा खर्च करता था। अब सवाल यह उठता है कि अहमद अलमक्की के पास पैसे कहां से आते थे। वह अपने ऊपर जमकर रुपए खर्च करता था उसके शौक शाही थे।

चार दिन बाद भी सुराग नहीं

अहमद अलमक्की का चार दिन बीत जाने के बाद भी सुराग नहीं लग सका है। पुलिस उसे तलाशने के लिए लगातार उसके समुदाय के लोगों के सम्पर्क में है। लेकिन घुसपैठिए की कोई भी जानकारी नहीं दे सका है।

जांच में अटक गई पुलिस

बांग्लादेशी घुसपैठिए के भागने के बाद पुलिस अब जांच में उलझ गई है। अहमद कहां गया और किसके साथ भागा है इस बारे में पुलिस के पास माथापच्ची करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचा है।



Tags:    

Swadesh Digital ( 9575 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top