Latest News
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > सांसद शेजवलकर का महापौर पद से इस्तीफा, एक व्यक्ति-एक पद की पेश की मिसाल

सांसद शेजवलकर का महापौर पद से इस्तीफा, एक व्यक्ति-एक पद की पेश की मिसाल

- सांसद बनने के बाद ही अपनी मंशा से नेतृत्व को करा दिया था अवगत

सांसद शेजवलकर का महापौर पद से इस्तीफा, एक व्यक्ति-एक पद की पेश की मिसाल

ग्वालियर। भारतीय जनता पार्टी के नवनिर्वाचित सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने बुधवार को ग्‍वालियर नगर निगम महापौर के पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा संभागायुक्त बीएम शर्मा को सौंपा है। शेजवलकर कहते हैं कि भाजपा ने वैचारिक रूप से एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत को प्रतिपादित किया है, उसका ही मै अनुशरण कर रहा हूं। उन्होंने इस्तीफा की औपचारिक घोषणा पत्रकारों के बीच की।

ग्वालियर संसदीय क्षेत्र से 23 मई को सांसद निर्वाचित होने के बाद से ही विवेक शेजवलकर ने महापौर पद से इस्तीफा देने का विचार कर लिया था। इस दौरान पार्टी नेतृत्व से लंबे विचार-विमर्श के बाद जब पार्टी ने औपचारिक रूप से महापौर का पद छोड़ने की औपचारिक अनुमति दे दी तब बुधवार को उन्होंने दोपहर एक बजे संभागायुक्त बीएम शर्मा के बंगले पर पहुंचकर अपना इस्तीफा सौंप दिया। उन्होंने इस्तीफा देने के साथ ही एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत को और मजबूत किया है। भाजपा नेता सतीश सिकरवार, कमल माखीजानी ने कहा कि इस तरह की मिसाल भाजपा के वैचारिक रूप से निष्ठावान लोग ही पेश कर सकते हैं।

छह माह बाद होना है निगम का चुनाव: छह माह बाद ही नगर निगम का चुनाव संभावित है। महापौर शेजवलकर द्वारा अपने पद से इस्तीफा दिए जाने के बाद अब नगरीय निकाय के चुनाव के साथ ही महापौर का भी चुनाव कराया जा सकेगा। इस दौरान परिषद की बैठकों में महापौर के रूप में कौन सदन को संबोधित करेगा या पार्षदों की बैठक में शहर विकास की योजनाओं के बारे में कौन बात करेगा। भाजपा के वरिष्ठ नेता पारस जैन कहते हैं की विधिक सलाहाकारों से चर्चा के उपरांत इस बारे में सबकुछ तय कर लिया जाएगा।

आगे क्या : महापौर का इस्तीफा होने के बाद नगर निगम प्रशासन आगे क्या करेगा? इस बारे में सबकुछ नगर निगम अधिनियम की धारा के तहत तय किया जाएगा। किसी वरिष्ठ पार्षद को भी महापौर की जिम्मेदारी निर्वहन का जिम्मा सौंपा जा सकता है। यह जिम्मेदारी राज्य शासन के स्तर पर तय की जाएगी या नगर निगम परिषद की बैठक में तय किया जाएगा अभी यह तय होना शेष है। शेजवलकर का कहना है कि निगम एक्ट के जानकार विधिक सलाहाकारों से परामर्श के बाद जो कुछ भी शहर के हित में होगा जल्द तय कर लिया जाएगा।

Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Share it
Top