Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > पुलिस आत्महत्या के कारणों को तलाशने में जुटी

पुलिस आत्महत्या के कारणों को तलाशने में जुटी

पुलिस आत्महत्या के कारणों को तलाशने में जुटी

आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने की आत्महत्या

इंदौर,
जाने माने आध्यात्मिक गुरु और सामाजिक कार्यकर्ता भय्यूजी महाराज (50) के गोली मारकर आत्महत्या करने की खबर ने हजारों लोगों को स्तब्ध कर दिया है। उन्हें घायल अवस्था में इंदौर के बॉम्बे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी मौत हो गई है। आत्महत्या के कारण का पता नहीं चल सका है। बताया जा रहा है कि उनके परिवार में संपत्ति को लेकर विवाद था। मंगलवार को इसी को लेकर झगड़ा चल रहा था। बहस के बाद उन्होंने खुद को कमरे में बंद कर लिया और कनपटी पर गोली मार ली। अध्यात्मिक गुरु बनने से पहले वे मॉडलिंग करते थे। भय्यूजी ने पहली पत्नी की मौत के बाद पिछले साल ही दूसरी शादी की थी। सूत्रों के मुताबिक भय्यू महाराज का अंतिम संस्कार बुधवार को किया जाएगा। अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव शरीर को उनके बापट चौराहे स्थित सूर्यादय आश्रम में रखा जाएगा।

बता दें कि भय्यूजी राजनीति में गहरी पैठ रखते थे। हाल ही में शिवराज सरकार ने उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा भी दिया था। हालांकि, उन्होंने प्रदेश सरकार के इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया था। उन्होंने कहा था कि संतों के लिए पद का महत्व नहीं होता। हमारे लिए लोगों की सेवा का महत्व है। भय्यूजी महाराज को राजनीतिक रूप से ताकतवर संतों में गिना जाता था। उनका असली नाम उदयसिंह देशमुख था और उनके पिता महाराष्ट्र में कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे हैं। उनका नाम तब चर्चा में आया था, जब भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के दौरान भूख हड़ताल पर बैठे अन्ना हजारे को मनाने के लिए यूपीए सरकार ने उनसे संपर्क किया था।

मौत से मात्र २० मिनट पहले किए तीन ट्वीट

भय्यूजी महाराज सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहते थे। हैरान कर देने वाली बात है कि अपनी मौत से मात्र 20 मिनट पहले उन्होंने एक के बाद एक लगातार तीन ट्वीट किए थे। लेकिन, बाद में खबर आई कि उन्होंने आत्महत्या कर ली है। समझना मुश्किल है कि ट्वीट और उनकी मौत के बीच के समय के दौरान किस तरह के हालात बने होंगे, जिस कारण उन्होंने खुदकुशी कर ली। इन ट्वीट्स के जरिए भय्यूजी ने मासिक शिवरात्रि के बारे में जानकारी देते हुए भक्तगणों को बधाई व शुभकामनाए भी दी थी। करीब 1 बजकर 57 मिनट पर किए गए इन ट्वीट को लेकर ऐसा नहीं लग रहा कि वो परेशान थे। इसके साथ ही उन्होंने केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र ङ्क्षसह तोमर को भी ट्वीट कर उनके जन्मदिन पर बधाई भी दी। ट्वीट में उन्होंने श्री तोमर के दीर्घायु होने की कामना भी की।

कांग्रेस ने की सीबीआई जांच की मांग

मामले पर सियासत भी शुरू हो गई है। कांग्रेस के नेता मानक अग्रवाल ने भय्यूजी महाराज की कथित खुदकुशी की घटना पर मध्य प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि सरकार का उन पर समर्थन देने और सुविधाओं को स्वीकार करने का दबाव था, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था। मानक का दावा है कि इसी वजह से वह (भय्यूजी) काफी मानसिक दबाव में थे। सीबीआई को इस मामले की जांच करनी चाहिए।

सुसाइड नोट आया सामने वह काफी तनाव में थे

भय्यूजी महाराज का सुसाइड नोट भी सामने आया है, जिससे साफ पता चल रहा है कि भय्यूजी महाराज काफी तनाव में थे और शायद इसी वजह से उन्होंने खुदकुशी कर ली। सुसाइड नोट में अंग्रेजी में लिखा गया है, 'किसी को वहां परिवार की देखभाल के लिए होना चाहिए। मैं जा रहा हूं... काफी तनावग्रस्त, परेशान था।Ó पुलिस महानिरीक्षक मकरंद देवस्कर ने कहा है कि सुसाइड नोट और पिस्टल को बरामद कर लिया गया है। सभी पहलुओं से मामले की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ की जाएगी।

कई नेताओं ने जताया शोक

भय्यू महाराज की मौत पर कई बड़े नेताओं ने शोक जताया है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर उनको श्रद्धांजलि दी है। वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी उनकी मौत पर संवेदना प्रकट की है।





Tags:    

Vikas Yadav ( 0 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top