Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > तत्काल में तीन मिनट के अंदर फुल हो रही हैं एसी की सीटें, बुक करते समय ये बरतें सावधानियां

तत्काल में तीन मिनट के अंदर फुल हो रही हैं एसी की सीटें, बुक करते समय ये बरतें सावधानियां

तत्काल में तीन मिनट के अंदर फुल हो रही हैं एसी की सीटें, बुक करते समय ये बरतें सावधानियां

नववर्ष की तैयारियां शुरू, ट्रेनों में नहीं मिल रहे कंफर्म टिकट

ग्वालियर,न.सं.। क्रिसमस और नववर्ष की तैयारियों में लोग अभी से जुट गए हैं। नववर्ष में घूमने जाने के लिए ट्रेनों में कंफर्म टिकट नहीं मिल रहा है। इस बार भी लोग अपने परिवार के साथ गोवा, शिरडी, तिरुपति, वैष्णोदेवी आदि स्थानों पर घूमने व दर्शन करने जा रहे हैं। दरअसल, रेलवे ने ट्रेनों में 120 दिन पहले आरक्षण उपलब्ध कराने की व्यवस्था कर रखी है। इस कारण 120 दिन पहले से ही यात्री आरक्षण कराना शुरू कर देते हैं। 24 दिसंबर से दस जनवरी के बीच धार्मिक व पर्यटक स्थलों की तरफ जाने वाली ट्रेनों में तो 60 दिन पहले ही आरक्षण फुल हो गए थे। चूंकि, उक्त अवधि में स्कूल बंद रहते हैं। इस कारण बड़ी संख्या में अभिभावक अंतिम समय में ही घूमने की प्लानिंग बना पाते हैं। ऐसे में कंफर्म आरक्षण न मिल पाने के कारण उनको मायूस होना पड़ता है। ट्रेनों की स्थिति ऐसी है कि मनमाड, मुंबई व गोवा की तरफ जाने वाली पंजाब मेल, गोवा एक्सप्रेस, पठान कोट एक्सप्रेस, मंगला एक्सप्रेस आदि ट्रेनों में नव वर्ष के आठ दिन पहले व पांच दिन बाद तक आरक्षण फुल चल रहा है। जम्मू की तरफ जाने वाली झेलम एक्सप्रेस, अंडमान एक्सप्रेस, हिमसागर एक्सप्रेस, मालवा एक्सप्रेस, जम्मूतवी-जबलपुर एक्सप्रेस, नवयुग एक्सप्रेस में कंफर्म सीट उपलब्ध नहीं है। इन ट्रेनों के एसी कोचों में डेढ़ माह तक जगह नहीं है। हां, स्लीपर में अवश्य दस जनवरी के बाद कंफर्म आरक्षण मिल रहा है। वहीं शिमला, कुल्लू मनाली के लिए अंबाला, चंडीगढ़ तक जाने वाली पठानकोट एक्सप्रेस व छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस का भी यही हाल है। जो लोग तिरुपति, चेन्नई, रामेश्वरम जाना चाहते हैं, उन्हें दस जनवरी के बाद स्वर्ण जयंती, तिरुपति एक्सप्रेस, जीटी एक्सप्रेस, एपी संपर्क क्रांति, केरला एक्सप्रेस, तमिलनाडु एक्सप्रेस के स्लीपर कोच में बर्थ खाली मिल रही है।

तत्काल टिकट का ही सहारा

यात्रियों के लिए कन्फर्म सीट पाने के लिए 24 घंटे पहले मिलने वाले तत्काल टिकट ही सहारा बचा है। इसमें सुबह दस बजे से वातानुकूलित और ग्यारह बजे से स्लीपर कोचों में सीट मिलती हैं। हालांकि, तत्काल टिकट प्रक्रिया चालू होने के दो मिनट बाद ही सभी सीटें भर जाती हैं। ऐसे में कर्मचारी चाहें, जितनी तेजी से टिकट बनाए और पैसा लें, लेकिन दो मिनट में तीन या चार से अधिक टिकट नहीं बनाए जा सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति लाइन में लगा और चौथे या पांचवें नंबर का टोकन उसे मिला तो भी उसे तत्काल का कन्फर्म टिकट मिलने की बहुत कम उम्मीद रहती है।

तत्काल टिकट के लिए यह बरतें सावधानियां

- तत्काल टिकट पाने के लिए यात्री पहले से पता कर लें कि संबंधित स्टेशनों के लिए कौन-कौन सी ट्रेनें जाती हैं।

- आरक्षण फार्म को भरकर पहले ही पूरी तरह तैयार रखें।

- आरक्षण लेते समय अगर फार्म में भरी गई ट्रेन में आरक्षण नहीं मिल सके तो वह तुरंत दूसरी ट्रेन का नंबर फार्म पर भरें।

- फार्म पर स्पष्ट नाम, ट्रेन नंबर, स्टेशन का नाम, उम्र, लिंग, पता, मोबाइल नंबर आदि भरें। ताकि कर्मचारी को फार्म में कमियां निकालने का मौका न मिल सके।

Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Share it
Top