Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > संप्रेषण माध्यम शिक्षा का अभिन्न अंग हैं : स्वामी सुप्रदीप्तानंद

संप्रेषण माध्यम शिक्षा का अभिन्न अंग हैं : स्वामी सुप्रदीप्तानंद

मेंटर्स तथा टीचर के गुणों में अंतर से अवगत कराया : प्रशांत दिवेकर

ग्वालियर/वेब डेस्क। रामकृष्ण विद्या मंदिर सी.बी.एस.ई. में ज्ञान प्रबोधिनी संस्था द्वारा तीन दिवसीय कार्यशाला का आज अंतिम दिन था। जिसका शुभारंभ ठाकुर जी, मां शारदा देवी जी तथा स्वामी जी के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य प्रवक्ता श्री प्रशांत दिवेकर जी हैड डब्लूं एन डांडेकर टीचर ट्रेनिंग सेंटर ज्ञान प्रबोधिनी पुणे, डॉ अपर्णा पाटनकर, श्री शिवानंद शर्मा जी वॉइस एंड एसेंट ट्रेनर, रुचिका कारदा इंस्ट्रक्टर इंग्लिश सेकंड लैंग्वेज फॉर्मल फैकेल्टी एनआईआईटी इंदौर, स्वामी सुप्रदीप्तानंद जी महाराज प्रचार्य, रामकृष्ण विद्या मंदिर ग्वालियर, श्रीमती फहमीदा कुरेशी प्रचार्या रामकृष्ण विद्या मंदिर स्टेट बोर्ड ग्वालियर, श्रीमती उमा पाठक कोऑर्डिनेटर रामकृष्ण विद्या मंदिर सीबीएसई ग्वालियर, श्री अनूप शर्मा जी कोऑर्डिनेटर रामकृष्ण विद्या मंदिर स्टेट बोर्ड ग्वालियर आदि उपस्थित रहे।

स्वामी सुप्रदीप्तानंद जी महाराज ने अपने उद्बोधन में कहा कि अपने कार्य प्रणाली में परिवर्तन कर लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है संप्रेषण माध्यम शिक्षा का अभिन्न अंग है जिसके माध्यम से विद्यार्थी का विद्यार्थी द्वारा, शिक्षक का विद्यार्थी द्वारा संप्रेषण से भिन्न कठिनाइयों को दूर किया जाता है एवं स्वामी विवेकानंद के जीवन से संबंधित प्रेरक प्रसंगों का वर्णन कर शिक्षक गणों को कर्तव्यनिष्ठ बनने के लिए प्रोत्साहित किया।

दिवेकर जी ने शिक्षक गणों को मेंटर्स के गुण, सकारात्मक संबंध, ध्यान और आनंद का वर्णन किया। साथ ही विभिन्न गतिविधियों में शिक्षकों की सहभागिता द्वारा मेंटर्स तथा टीचर के गुणों में अंतर से अवगत कराया। एवं बताया कि भविष्य में विद्यार्थियों तक अच्छी शिक्षा स्थानांतरित करने के लिए क्या क्या प्रयास अभिभावकों की सहभागिता से संपन्न कर सकते हैं।

डॉ अपर्णा जी ने बच्चों के भाषा संप्रेषण संबंधित वाचाल विकास की महत्ता पर प्रकाश डाला। श्री शिवानंद शर्मा जी ने बताया कि अंग्रेजी विज्ञान ,गणित तथा शैक्षणिक पाठ्यक्रम का अहम अंग है। अंग्रेजी सीखना अत्यंत आवश्यक है। कार्यशाला का समापन स्वामी सुप्रदीप्तानंद जी महाराज के कर कमलों द्वारा स्मृति चिन्ह भेंट करके हुआ।

Tags:    

Swadesh Digital ( 10049 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top