Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > खुद के घर में 2 माह से बंधक थीं सेवानिवृत्त आईजी की पत्नी और साली, 15 ताले तोड़ पुलिस ने कराया मुक्त

खुद के घर में 2 माह से बंधक थीं सेवानिवृत्त आईजी की पत्नी और साली, 15 ताले तोड़ पुलिस ने कराया मुक्त

खुद के घर में 2 माह से बंधक थीं सेवानिवृत्त आईजी की पत्नी और साली, 15 ताले तोड़ पुलिस ने कराया मुक्त

भोपाल। शहर के पॉश ईदगाह हिल्स इलाके में एक आलीशान मकान के सामने जब पुलिस टीम पहुंची,तो अनहोनी की आशंका से लोग सहम गए। काफी देर तक खटखटाने पर जब घर के अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली,तो पुलिस ने पड़ोस के मकान की छत से किसी तरह मकान में प्रवेश कर रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। अलग-अलग 15-16 कमरों में लगे ताले तोडक़र पुलिस जब एक कमरे में पहुंची तो वहां दो बुजुर्ग महिलाएं बदहवास हालत में मिलीं। पुलिस टीम को देखकर उनकी आंखों में कृतज्ञता की चमक दिखी। महिलाओं में स एक सेवानिवृत्त आईजी (जेल) की पत्नी और दूसरी उनकी बहन हैं। पुलिस ने घर के एक कमरे में छिपे उनके केयरटेकर और नौकरानी को गिरफ्तार कर लिया। महिलाओं को मेडिकल कराने के बाद उनके भाई के घर भेज दिया गया है।

एएसपी जोन-3 मनु व्यास ने बताया कि एसआर हसन वर्ष 1985 में जेल विभाग से आईजी के पद से रिटायर हुए थे। उनकी वर्ष 1995 में मौत हो गई थी। उनका ईदगाह हिल्स पर हबीब मंजिल रोड पर 7 नंबर मकान है। मकान में उनकी पत्नी रजिया हसन(80) और रजिया हसन की बहन राना सुल्तान(65) रहती हैं। रजिया हसन सेवानिवृत्त शिक्षक हैं। उनके एक भाई रफी उर जफर (62) फतेहगढ़ में रहते हैं। रफी पिछले कई दिनों से अपनी बहन रजिया से संपर्क करने की कोशिश कर रहे थे,लेकिन उनकी देखरेख करने वाला अब्दुल लईक और नौकरानी रुकमणि उन्हें गुमराह करके बहन से मिलने नहीं दे रहे थे। परेशान होकर रफी ने बुधवार दोपहर करीब 12 बजे थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई। साथ ही बहन के साथ अनहोनी की आशंका जताई।

घर में मौजूद था केयरटेकर,फोन पर बोला हवाईअड्डे रोड पर हूं

शिकायत को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने थाने से केयरटेकर लईक को फोन लगाया,तो उसने कहा कि वह एयरपोर्ट रोड पर पर सलीम नाम के बिल्डर के साथ है। उसे घर पहुंचने में समय लग जाएगा। इसके बाद लईक ने अपना फोन बंद कर लिया। पुलिस ने एयरपोर्ट रोड पर पहुंचकर सलीम से संपर्क किया। सलीम ने बताया कि उसके पास लईक आया ही नहीं। इसके बाद एसआई राघवेंद्रसिंह महिला पुलिस कर्मियों सहित छह लोगों की टीम और रजिया हसन के परिजनों को साथ लेकर रिटायर्ड आईजी के मकान पर पहुंच गए। पुलिस को देखकर घर में मौजूद लईक और नौकरानी ने दरवाजे बंद कर लिए।

पड़ोस के मकान से घर में दाखिल हुई पुलिस

पुलिस ने लईक को आवाज देते हुए काफी देर तक दरवाजा खटखटाया,लेकिन अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। पुलिस को घर में अंदर दाखिल होने के लिए पड़ोस के मकान की छत का सहारा लेना पड़ा। पुलिस छत से लगे शौचालय के पाइप के सहारे घर के अंदर पहुंची। मकान में करीब एक दर्जन से अधिक कमरे हैं। एएसपी व्यास के मुताबिक पुलिस को करीब 15-16 कमरों के ताले तोडऩा पड़े। इस दौरान भीतर की तरफ बने अटैच शौचालय वाले एक कमरे में दो बुजुर्ग महिलाएं बदहवास हालत में बैठी मिलीं। पुलिस को देखते ही उनकी आंखों में कृतज्ञता की चमक आ गई। बीमार चल रही श्रीमती हसन,भाई को सामने देखकर भावुक हो गई। उधर पुलिस ने घर के अंदर मौजूद केयरटेकर लईक (40) और नौकरानी रुकमणि (32) को हिरासत में ले लिया।

सौतेले बेटे के कहने पर बना रखा था बंधक

सीएसपी शाहजहांनाबाद नागेंद्र पटेरिया ने बताया कि श्रीमती हसन का सौतेला बेटा खालिद के बच्चे अमेरिका में रहते हैं। खालिद सऊदी अरब में नौकरी करता था। रिटायर होने के बाद वह पत्नी के साथ भोपाल आ गया है। सीएसपी के मुताबिक पूछताछ में केयरटेकर लईक ने बताया कि 2 माह पहले खालिद अपनी पत्नी के साथ बच्चों के पास अमेरिका गया है।

जाते समय उसने लईक और नौकरानी रुकमणि से कहा था कि श्रीमती हसन और उनकी बहन राना सुल्तान को किसी भी कीमत पर न तो घर से निकलने देना और न ही किसी से मिलने देना। इस वजह से उन लोगों ने दोनों को कमरे में बंधक बना लिया था। कमरे में ही खाना और दवा आदि पहुंचा दी जाती थी। इस मामले में पुलिस ने फोन पर खालिद से संपर्क कर उसे थाने तलब किया है।

Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Share it
Top