Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > नमामि देवी नर्मदे यात्रा की घोषणा भी नमामि गंगे योजना की ही तरह ही हवा हवाई: कमलनाथ

नमामि देवी नर्मदे यात्रा की घोषणा भी नमामि गंगे योजना की ही तरह ही हवा हवाई: कमलनाथ

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पोल खोलो - वास्तविकता बताओ अभियान

नमामि देवी नर्मदे यात्रा की घोषणा भी नमामि गंगे योजना की ही तरह ही हवा हवाई: कमलनाथ

नमामि देवी नर्मदे यात्रा की घोषणा भी नमामि गंगे योजना की ही तरह ही हवा हवाई : कमलनाथ

भोपाल | प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पोल खोलो - वास्तविकता बताओ अभियान के तहत आज नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के दौरान व उसके समापन पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गयी, कई घोषणाएँ की याद दिलाते हुए कहा कि आज इस यात्रा के समापन को 13 माह से अधिक हो चले है। माँ नर्मदा प्रदेश की जीवनदायिनी नदी होने के साथ-साथ आस्था की भी केंद्र है। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के दौरान व प्रधानमंत्री मोदी जी की उपस्थिति में इसके समापन कार्यक्रम के दौरान कई बड़े - बड़े वादे व घोषणाएँ की थी। जो आज तक पूरी होने का इंतज़ार कर रही है। ऐसा लग रहा है कि नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा की घोषणाएँ भी नमामि गंगे योजना की तरह ही हवा-हवाई ना हो जाये?

शिवराज जी ने नर्मदा नदी के संरक्षण, संवर्धन व इसे अविरल व प्रदूषण मुक्त बनाने के लिये 11 दिसंबर 2016 को 148 दिवसीय नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा का शुभारंभ नर्मदा नदी के उदग़म स्थल अमरकण्टक से किया था और इसका समापन भी अमरकण्टक में ही 15 मई 2017 को प्रधानमंत्री की मौजूदगी में किया था। इस यात्रा के दौरान कई अभिनेताओ, राजनेताओ व संत-महात्माओं को बुलाया गया था। कई घोषणाएँ इस यात्रा के दौरान व समापन कार्यक्रम के दौरान की गयी थी। इस यात्रा के समापन के एक वर्ष पूर्ण होने पर भी भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था। वेसे तो इस यात्रा के दौरान ही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने सार्वजनिक मंच से कहा था कि नर्मदा के संरक्षण को लेकर जो बातें कही जा रही है , यदि उस पर गंभीरता से अमल हो तो ही नर्मदा बची रह सकती है।

इस यात्रा के लिये करोड़ों रुपये ख़र्च किये गये। यहाँ तक कि न्यूयार्क के अखबारो में भी इसके विज्ञापन दिये गये इस यात्रा को लेकर आरटीआई के ज़रिए यह बात भी सामने आयी कि 4 मार्च को महेश्वर घाट पर हुई एक आरती के लिये 58650/- रुपये का सरकारी भुगतान एक इवेंट कंपनी को किया गया। ऐसे कई ठहरने, खाने में हुए ख़र्च में हुए फज़ऱ्ीवाडे बाद में सामने आये। इस अवसर पर कऱीब 20 बड़ी घोषणाएँ की गयी, उसमें से प्रमुख घोषणाएँ इस प्रकार है जो आज तक पूरी नहीं हुई है। नर्मदा परिक्रमा करने वालों के लिये नर्मदा परिक्रमा पथ बनाया जायेगा।

इसको लेकर ज़मीन अधिग्रहण से लेकर अभी तक क्या कार्यवाही हुई, सरकार बताये? नर्मदा नदी के उदग़म स्थल अमरकण्टक को विश्व का सबसे बड़ा ख़ूबसूरत तीर्थ बनाने का दावा इस यात्रा के दौरान किया गया। उस दावे का क्या हुआ? नर्मदा तट के 18 शहरों में जल उपचार संयंत्र स्थापित करने की घोषणा की गयी थी। उसका क्या हुआ? मोदी जी की उपस्थिति में नर्मदा नदी को विश्व की सबसे स्वच्छ नदियों में से एक नदी बनाने की घोषणा की गयी थी, क्या वह पूरी हो गयी? नर्मदा नदी में मिलने वाले सभी गंदे नाले के पानी को रोकने व उस पानी को ट्रीटमेंट प्लांट के ज़रिये साफ़ करने की घोषणा भी की गयी थी , जबकि अभी भी कई गंदे नालों का पानी नर्मदा में मिल रहा है। इस घोषणा का क्या हुआ? नर्मदा नदी के किनारों पर फलदार पेड़ लगाने की घोषणा की गयी थी क्या लग गये? क्या इस सेवा यात्रा के बाद नर्मदा नदी को छलनी करने वाले अवैध उत्खनन रुक गये? मोदी जी की उपस्थिति में शिवराज जी ने नर्मदा सेवा कार्यों की शुरुआत की घोषणा की थी। कौन से कार्य इसके तहत आज तक हुए? इन सब सवालों का शिवराज जवाब दे? ताकि प्रदेशवासियों के सामने इस यात्रा की वास्तविकता सामने आ सके।


Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top