Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के तहत किसान सम्मेलन संपन्न

मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के तहत किसान सम्मेलन संपन्न

मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के तहत किसान सम्मेलन संपन्न

मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के तहत किसान सम्मेलन संपन्न

किसानों के हित के लिए कार्य कर रही है मध्यप्रदेश सरकार : ज्ञान सिंह

शहडोल,
मध्यप्रदेश सरकार खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। जिसके कारण मध्यप्रदेश के किसानों की आर्थिक स्थिति में परिवर्तन हुआ है। आर्थिक उपार्जन के लिये पहले खेती को उत्तम कार्य माना जाता था। किंतु कुछ कारणों से लोग शासकीय नौकरी को पहले आर्थिक उपार्जन के लिये प्राथमिकता देने लगे। शहडोल संसदीय क्षेत्र के सांसद ज्ञान सिंह ने कहा है कि मध्यप्रदेश सरकार ने खेती को लाभ का धंधा बनाकर किसानों के आर्थिक सशक्तीकरण के प्रयास कर रही हैं। सांसद ने कहा कि मध्यप्रदेश के किसानों को प्रदेश सरकार हर संभव सुविधाएं मुहैया करा रही है। उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश

सरकार का प्रयास किसान को सामर्थ्यवान और ताकतवर बनाना है, इस दिशा में मध्यप्रदेश सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। सांसद ज्ञान सिंह संभागीय मुख्यालय शहडोल के टेक्निकल स्कूल ग्राउण्ड में आयोजित मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना किसान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। किसान सम्मेलन का शुभारंभ सांसद ज्ञान सिंह एवं अन्य अतिथियों द्वारा भगवान बलराम के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया। किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुये उन्होने कहा कि मनुष्य की दो जातियां होती है एक अमीर और दूसरी गरीब। प्रदेश सरकार ने अमीर और गरीब के बीच की दूरी को पाटने का काम कर रही है। किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुये पूर्व मंत्री एवं विधायक जयसिंह मरावी ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार किसानों के हित के लिये अनेंक योजनाएं संचालित कर रही है।

उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याजदर पर ऋ ण मुहैया कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना जैसी अभिनव योजना संचालित की जा रही है। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में जिले के बुढ़ार विकास खण्ड में ही सिर्फ 9 हजार मकान बन रहे हैं, इससे गरीब और कमजोर तबके के लोगों को सीधा लाभ होगा।
उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश में असंगठित मजदूरों के पंजीयन का कार्य किया गया है, असंगठित मजदूरों को प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने के लिये आगामी 13 जून को ब्लाक स्तर पर शिविरों का आयोजन किया जायेगा तथा अपंजीकृत मजदूरों को प्रमाण पत्र मुहैया कराये जायेंगें। किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुये अध्यक्ष नगर पालिका मती उर्मिला कटारे ने कहा कि प्रदेश के अन्नदाताओं की कर्मठता के कारण मध्यप्रदेश को लगातार पांचवी बार कृषि कर्मण्य पुरस्कार मिला है।

उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने किसानों के लिये भावांतर भुगतान योजना, शून्य प्रतिशत पर ऋण योजना, किसानों को समुचित बिजली, पानी, खाद, बीज मुहैया करा रही है, जिसके परिणाम स्वरूप आज हमारा मध्यप्रदेश पंजाब और हरियाणा से कृषि उत्पादन के क्षेत्र में आगे बढ़ गया हैं। किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुये कलेक्टर मती अनुभा वास्तव ने कहा कि कृषकों के अथक प्रयासों के कारण हमारा देश खाद्यान्न के क्षेत्र में परिपूर्ण हुआ है। उन्होने कहा कि आज आयोजित किसान सम्मेलन में किसानों को कृषि वैज्ञानिकों से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। उन्होने ने किसानों को धन्यवाद देते हुये कहा कि वे अपना बहुमूल्य समय देकर यहां आये हैं, मुझे आशा है कि कृषक किसान मेले से आधुनिक खेती की तकनीकी सीख कर जायेंगें। किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुये उप संचालक किसान कल्याण जे.एस.पेन्द्राम ने कहा कि आज सम्पूर्ण मध्यप्रदेश में जिला मुख्यालयों में किसान सम्मेलनों का आयोजन किया जा रहा है जिसका उद्देश्य किसानों तक खरीफ सीजन के लिये आधुनिक कृषि तकनीकी की जानकारी देना हैं। किसान सम्मेलन में कृषकों को कृषि वैज्ञानिक डॉ.त्रिपाठी एवं कृषि वैज्ञानिक डॉ. मृगेंद्र सिंह द्वारा खरीफ सीजन में बोने वाली फसलों की आधुनिक तकनीकी की जानकारी दी गई।





Tags:    

Vikas Yadav ( 0 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top