Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगने के बाद माता के मंदिर पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा

चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगने के बाद माता के मंदिर पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा

चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगने के बाद माता के मंदिर पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा

भोपाल। मध्यप्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर चुनाव आयोग द्वारा लगाया गया चुनाव प्रचार पर 72 घंटे का प्रतिबंध गुरुवार को सुबह छह बजे से शुरू हो गया। अब अगले 72 घंटे तक वे मौन रखकर मंदिरों में पूजन-अर्चना करेंगी।

उल्लेखनीय है कि भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की उम्मीदवार घोषित किये जाने के बाद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मालेगांव बम ब्लास्ट में उनकी गिरफ्तारी और जेल में उन्हें दी गई प्रताड़ना को लेकर मीडिया को आपबीती सुनाई थी। इस दौरान उन्होंने पूर्व एटीएस चीफ और मुम्बई के 26/11 हमले में हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान दिया था। इसके एक दिन बाद ही उन्होंने बाबरी ढांचा गिराने को लेकर भी विवादित बयान दिया था। जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा दोनों ही बयानों को लेकर साध्वी प्रज्ञा को नोटिस जारी कर जवाब-तलब किया था। उन्होंने नोटिस का जवाब दिया, जिसे प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव द्वारा भारत निवार्चन आयोग को भेजा था। निर्वाचन आयोग ने उनके जवाब से असंतुष्ट होकर उनके चुनाव प्रचार पर 72 घंटे का प्रतिबंध लगाया है। इस प्रतिबंध के तहत वह गुरुवार सुबह 6 बजे से लेकर आगामी 72 घंटे तक प्रचार, जुलूस, रैली, रोड शो, साक्षात्कार आदि में भाग नहीं ले सकेंगी।

इस संबंध में साध्वी प्रज्ञा ने कहा है कि वे निर्वाचन आयोग के आदेश का पालन करेंगी। वे मौन रहकर अपना अधिकतर समय मंदिरों में पूजा-अर्चना में बिताएंगी। गुरुवार को सुबह वे पुराने भोपाल के भवानी चौक स्थित कर्फ्यू वाली माता के मंदिर पहुंचीं, जहां वे माता की आरती में शामिल हुईं। उन्होंने माता के दर्शन कर पूजा-अर्चना की और मंदिर में चल रहे भवन में भी शामिल हुईं। इस दौरान पार्टी के कई वरिष्ठ नेता उनके साथ मौजूद थे।

इधर, कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय ने साध्वी प्रज्ञा पर निर्वाचन आयोग द्वारा लगाए गए 72 घंटे के चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने गुरुवार को ट्वीट किया है कि चुनाव आयोग का निर्णय अभिनंदनीय है। कहा कि आदर्श लोकतांत्रिक मूल्यों की स्थापना व संरक्षण के लिए इस प्रकार के उम्मीदवारों के नामांकन रद्द करना श्रेयस्कर होगा।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top