Home > देश > फ्रांस में राफेल के साथ शस्त्र पूजन से पहले रक्षामंत्री ने ट्वीट कर यह बोला

फ्रांस में राफेल के साथ शस्त्र पूजन से पहले रक्षामंत्री ने ट्वीट कर यह बोला

फ्रांस में राफेल के साथ शस्त्र पूजन से पहले रक्षामंत्री ने ट्वीट कर यह बोला

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि फ्रांस, भारत का महत्वपूर्ण सामरिक सहयोगी है और दोनों देशों के बीच विशेष संबंध औपचारिकताओं से परे हैं। सिंह ने दो दिनों की फ्रांस यात्रा पर आज यहां पहुंचने पर ट्वीट किया," फ्रांस आकर प्रसन्नता महसूस हो रही है। यह महान देश भारत का महत्वपूर्ण सामरिक सहयोगी है और हमारे विशेष संबंध औचारिकता के बंधन से परे हैं।"

रक्षा मंत्री ने अपनी यात्रा के दौरान राफेल विमानों की पहली खेप हासिल करेंगे। वह फ्रांस के मेरिगनाक में एक समारोह के दौरान राफेल विमानों की खेप प्राप्त करेंगे। इस दौरान फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लारेंस पर्ली भी मौजूद रहेंगे। इस दौरान वह फ्रांस के रक्षा मंत्री के साथ सालाना रक्षा वातार् में भी हिस्सा लेंगे। फ्रांस यात्रा के दौरान सिंह राफेल से भी उड़ान भरेंगे। रक्षा मंत्री नौ अक्टूबर को फ्रांस के रक्षा उद्योग के अधिकारियों को भी संबोधित करेंगे।

वैसे तो सिंह मंगलवार को 36 राफेल जेट विमानों में पहला विमान मंगलवार को प्राप्त कर लेंगे लेकिन चार विमानों का पहला खेप अगले साल मई तक ही भारत आएगा। दिन में बाद में सिंह पार्ले के साथ वार्षिक रक्षा वार्ता भी करेंगे जिस दौरान दोनों पक्ष रक्षा एवं सुरक्षा संबंध को और मजबूत करने के तौर तरीके खंगालेंगे।

नौ अक्टूबर को सिंह फ्रांसीसी रक्षा कंपनियों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों को संबोधित करेंगे। संभावना है कि वह उनसे भारत में रक्षा के क्षेत्र में मेक इन इंडिया पहल में भाग लेने की अपील करेंगे। पिछले कुछ वर्षों में भारत और फ्रांस के बीच रक्षा एवं सुरक्षा संबंध में तेजी आयी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगस्त में फ्रांस गये थे जिस दौरान दोनों पक्षों ने पहले से घनिष्ठ रक्षा संबंधों को और गहरा करने का निश्चय प्रकट किया था।

सूत्रों ने कहा कि भारतीय वायुसेना की उच्च स्तरीय टीम राफेल विमान सौंपने से संबंधित कार्यक्रम में फ्रांसीसी अधिकारियों के साथ तालमेल के लिए पहले से ही फ्रांस में है। भारत ने करीब 59000 करोड़ रुपये मूल्य पर 36 राफेल लड़ाकू जेट विमान खरीदने के लिए सितंबर, 2016 में फ्रांस के साथ अंतर-सरकारी समझौता किया था।

सूत्रों ने बताया कि विमान का पहला स्क्वाड्रन अंबाला वायुसेना स्टेशन पर तैनात किया जाएगा जो भारतीय वायुसेना के सामरिक रूप से अति महत्वपूर्ण अड्डों में एक समझा जाता है। यह अड्डा भारत पाक सीमा से करीब 220 किलोमीटर दूर है। राफेल का दूसरा स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में हाशिमारा अड्डे पर तैनात किया जाएगा।


Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top