Home > Lead Story > मंदसौर में दोनों दुष्‍कर्मियों को फांसी देने की मांग, सड़कों पर लोग

मंदसौर में दोनों दुष्‍कर्मियों को फांसी देने की मांग, सड़कों पर लोग

मंदसौर को शर्मसार करने वाली घटना को अंजाम देने वाले इरफान से पुलिस की पूछताछ जारी है

मंदसौर में दोनों दुष्‍कर्मियों को फांसी देने की मांग, सड़कों पर लोग

मंदसौर। सात साल की मासूम के साथ दुष्कृत्य के मामले में एक और आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गया है। इधर लोगों का आक्रोश भी थमने का नाम नहीं ले रहा। लगातार दूसरे दिन कई जगहों पर आक्रोश सडकों पर उतर आया। जिले के कई क्षेत्रों में लोगों ने खुद ही व्यवसाय बंद रखे और आरोपी को फांसी दिए जाने की मांग की। इंदौर में बच्ची की हालत में अब सुधार है। शुक्रवार को सांसद सुधीर गुप्ता और पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन ने भी इंदौर पहुंचकर बच्ची के परिजनों से बात की।

मंदसौर को शर्मसार करने वाली घटना को अंजाम देने वाले इरफान से पुलिस की पूछताछ जारी है। पूछताछ के बाद पुलिस ने इस मामले में एक और आरोपी को धर दबोचा है। मिली जानकारी के अनुसार इस घिनौने काम में इरफान का साथ आसिफ पिता जुल्फीकार निवासी मदारपुरा ने दिया था, हालांकि पुलिस ने देर शाम तक इस बात का खुलासा नहीं किया था कि इस घटना में आसिफ का क्या रोल था, लेकिन आसिफ भी नशे का आदी है। पुलिस उससे भी पूछताछ कर रही है। इधर दूसरे दिन भी लोगों का आक्रोश थमने का नाम नहीं ले रहा था। शुक्रवार को सुबह कुछ लोग मंदसौर भी बंद करवाने के लिए निकले। हालांकि ग्यारह बजे तक दुकानें खुल गई। घटना के विरोध में गरोठ, शामगढ़, सुवासरा, रुनिजा, संजीत, मानपुरा सहित अन्य जगहों पर बाजार बंद रहे। इसके साथ ही संगठनों द्वारा ज्ञापन सौंपकर आरोपी को फांसी देने की मांग की। घटना के विरोध में मंदसौर में एबीवीपी, दशुपर योग संस्थान, अल्पसंख्यक हक अधिकार समिति, जैन समाज, सुवासरा में मुस्लिम समाज, शामगढ़ में मुस्लिम समाज, मल्हारगढ़ में मुस्लिम समाज द्वारा प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा गया। महिला कांग्रेस ने भी मंदसौर में मौन जुलूस निकाला।

सीतामऊ में जुलूस

फांसी की सजा हो इस मांग को लेकर राज्यपाल के नाम अनुविभागीय अधिकारी को अशासकीय शिक्षण संस्था संघ,सीतामऊ द्वारा मौन जुलूस निकालकर ज्ञापन दिया गया। मौन जुलूस मोड़ीमाताजी मंदिर प्रांगण से प्रारंभ होकर एसडीएम कार्यालय पहुंचा जिसमे अशासकीय विद्यालय के स्टाफ सदस्य व संचालक गण पंक्तिबद्ध होकर चल रहे थे। ज्ञापन पत्र का वाचन अशासकीय शिक्षण संघ के अध्यक्ष पुष्पेन्द्रसिंह भाटी ने ज्ञापन का वाचन किया व आभार समिति सचिव नरेंद्र दुबे ने माना।

गरोठ पूरी तरह बंद

गरोठ में शुक्रवार को सुबह से बाजार ओर सब्जी से लेकर फल मंडी भी बंद रही। दोपहर को शहीद चोक पर आमजन ने एकत्रित होकर मासूम बालीका के साथ घटना को अंजाम देने वाले मुस्लिम समाज के युवक इरफान को तत्काल फांसी देने की मांग की। बस स्टैंड पर एसडीएम आरपी वर्मा को राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया।

सुवासरा, नाहरगढ़ भी बंद

सुवासरा प्रतिनिधि के अनुसार सुवासरा भी पूरी तरह से बंद रहा। यहां सभा चैक पर हुए विरोध प्रदर्शन में विधायक हरदीपसिंह डंग सहित अन्य लोग शामिल हुए। नाहरगढ़ में महादेव कुण्ड गणेश मंदिर पर एकत्रित हुए। मौन जुलूस नगर के प्रमुख मार्गो से होता हुआ बस स्टैण्ड पर पहुंचा। यहां ज्ञापन सौंपा गया। शुक्रवार को नाहरगढ़ भी पूरी तरह से बंद रहा।

पिपलियामंडी में हवन

कांग्रेसजनों ने टिलाखेड़ा बालाजी मंदिर पर हवन करवा कर बालिका के शीघ्र से शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना की। पण्डित पंकज शर्मा ने विधि-विधान से मंत्रोच्चार कर हवन सम्पन्न करवाया।

यहां महिलाओं का आक्रोश

मंदसौर मेें गांधी चैराहा पर शाम को कई महिलाएं एकत्रित हुई। महिलाओं ने आरोपी को फांसी देने की मांग तो की ही, साथ ही स्कूल प्रशासन के खिलाफ भी उनका गुस्सा फूट पड़ा। महिलाओं ने पुलिस से स्कूल के प्राचार्य को बुलाने की मांग की। काफी मुश्किल से पुलिस ने महिलाओं को समझाया।

सांसद पहुंचे इंदौर

सांसद सुधीर गुप्ता शुक्रवार को इंदौर के एमवाय हास्पीटल पहुंचे और मंदसौर बालिका के स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होने हास्पीटल पहुंचकर हास्पीटल अधिक्षक वीएस पाल से बालिका के स्वास्थ्य की संपूर्ण जानकारी ली और बालिका को बेहतर से बेहतर उपचार मिले इस पर चर्चा की। साथ ही बच्ची के परिजनों से भी चर्चा कर प्रदेश सरकार द्वारा हर संभव सहायता का भरोसा दिलाया। वे इंदौर हास्पीटल पहुंचने से पहले भोपाल गए और मुख्यमंत्री से मुलाकात कर मामले की पूरी जानकारी दी। इसी के साथ आरोपी पर कड़ी कार्रवाई और मामले को फास्ट ट्रेक कोर्ट में चलाने के लिए एक आवेदन दिया।

स्कूली बच्चों ने की प्रार्थना

मन्दसौर में घटित घटना में पीडित नन्ही बालिका हेतु सेन्ट थॉमस विद्यालय परिवार ने प्रातरू कालीन सभा मे मिलकर उसके शीघ्र ही स्वस्थ , दीर्घायु होने व शहर मैं अमन व शांति के लिए प्रार्थना करी । इस अवसर पर संस्था मैनेजर फादर कैनेडी थॉमस ने विद्यालय को संबोधित करते हुए मन्दसौर मैं मासूम बच्ची के साथ हुई वीभत्स घटना की घोर निंदा करते हुए आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की अपील करी । साथ ही विद्याथियो खासकर छोटे बालक बालिकाओं को आगाह करते हुए कहा कि दुर के रिश्तों को दूर ही रखों।

पूर्व सांसद भी पहुंची एमवाय

शुक्ररवार को मन्दसौर की पूर्व सांसद एवं राजीव गांधी पंचायत राज संगठन की अध्यक्ष सुश्री मीनाक्षी नटराजन ने इंदौर एमवाय हॉस्पीटल पहुंच कर वहाँ उपचाररत मन्दसौर की पीडि़त बेटी के स्वास्थ की जानकारी ली व परिजनों से मुलाकात की । इस दौरान सुश्री नटराजन ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से दूरभाष पर चर्चा कर पूरे मामले के साथ बालिका के स्वास्थ की जानकारी दी । कमलनाथ ने बालिका के उपचार हेतु हर संभव मदद की बात कही एवं जरूरत पडने पर बालिका को एम्स दिल्ली में उपचार हेतु भिजवाने की व्यवस्था करने की पेशकश भी की है।

मदारपुरा से बाहर निकाला आरोपी इरफान के परिवार को

कोतवाली पुलिस ने आरोपित इरफान उर्फ भय्यू पर भादसं की धारा 363, 366, 376(2) एम, 376 एबी, 307 व पास्को एक्ट की धारा 5 एलध्6, 5 आरध्6, 5(एम)ध्6 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। इसमें वह धारा भी शामिल है जिसमें फांसी की सजा का प्रावधान किया गया है। मदारपुरा के लोगों ने बताया कि इरफान का परिवार मूल रूप से रतलाम जिले के रिंगनोद का रहने वाला है। वहां इसके पिता जहीर खां व उनके भाइयों की संयुक्त जायदाद लगभग डेढ़ करोड़ रुपए में बेचकर लगभग डेढ़ साल पहले ही मंदसौर में आए थे और जहीर खां अपने साले नाहरु के मदारपुरा स्थित मकान में किराए के मकान में रह रहे थे। जहीर खां ने अपने हिस्से के रुपए भी साले को ही दे दिए थे। इसके बदले वह इन्हें थोड़े बहुत रुपए देता रहता है। इरफान आवारा किस्म का लडका है। इसके भाई की कुछ दिन पहले एक्सीडेंट में मौत हो चुकी है। इरफान के बारे में जानने वालों ने बताया कि वह सुबह से शराब पीकर नेहरू बस स्टैंड स्थित नेहरू उद्यान व उसके आसपास ही घूमता रहता है। आए दिन बगीचे में आने वाली महिलाओं से छेड़छाड़ करता रहता था। वहां भी कई बार लोगों ने इसकी पिटाई भी की थी।

पुलिस द्वारा इरफान को पकडने के बाद उसके घर से खून से सने कपड़े भी जब्त किए हैं। मासूम बच्ची के दुष्कर्म के आरोप में पकड़े जाने के बाद मदारपुरा के लोगों ने विरोध किया और उसके माता-पिता को तत्काल मोहल्ले का मकान खाली कर निकल जाने को भी कह दिया था। बताया जा रहा है कि गुरुवार को आरोपित के पिता जहीर खां व माता इरफान के मामा के जैपुरा स्थित घर पर चले गए है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top