Home > Lead Story > मुंबई में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, 17 विमानों का रूट डायवर्ट

मुंबई में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, 17 विमानों का रूट डायवर्ट

मुंबई में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, 17 विमानों का रूट डायवर्ट

मुंबई/पुणे। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई और आसपास के इलाकों में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। इस दौरान लोगों को बाहर न निकलने और समुद्र के तट पर न जाने की सलाह दी गई है। सड़कों पर लोगों को ट्रैफिक जाम से भी जूझना पड़ रहा है। वहीं, मुंबई के कई हिस्सों से इमारतों के गिरने की खबरें सामने आई हैं। वहीं खराब मौसम के चलते अब तक 17 विमानों का रूट डायवर्ट किया गया है।

मौसम विभाग की माने तो मुंबईकरों को अभी बारिश से राहत मिलने के आसार नहीं हैं। शुक्रवार को विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान में राजधानी और इसके आसपास के इलाकों में आंधी आने की भी संभावना जताई गई है। विभाग के मुताबिक, अगले 4 घंटों के दौरान ठाणे, रायगढ़ और मुंबई में 50 से 60 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने के आसार हैं। इसके अलावा मॉनसून धाराओं के मजबूत होने की वजह से अगले 48 घंटों में उत्तरी कोंकण इलाके में भारी बारिश होने का अनुमान है।

खराब मौसम और भारी बारिश के चलते राज्य में हवाई यात्राएं भी प्रभावित हुई हैं। छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि पिछले दो घंटे से राज्य में भारी बारिश के कारण तकरीबन सभी उड़ाने आधे घंटे की औसत देरी से चल रही हैं। मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल) के पीआर ने बताया कि 17 फ्लाइट्स का रूट डायवर्जन अब तक किया गया है। उन्होंने बताया कि अभी भी दृश्यता अस्थिर बनी हुई है और समय-समय पर इसमें उतार-चढ़ाव जारी है।

इससे पहले महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई स्थित क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने शुक्रवार को ठाणे और पुणे में ऑरेंज अलर्ट जारी किया था। केंद्र के पूर्वानुमान के मुताबिक, राजधानी मुंबई समेत ठाणे और रायगढ़ में भारी बारिश की संभावाना है। इसके पहले 26 और 28 जुलाई के लिए पालघर में रेड अलर्ट जारी किया जा चुका है। बता दें कि मॉनसून की विभिन्न स्थितियों के लिए रेड से लेकर ऑरेंज तक अलग-अलग अलर्ट जारी किए जाते हैं। इनमें ऑरेंज अलर्ट अधिकारियों को गंभीर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने का सिग्नल होता है।

मौसम विभाग के मुताबिक, मंगलवार की आधी रात के बाद से राज्य में मॉनसून एक बार फिर ऐक्टिव हो गया है। ऐसे में भारी बारिश की वजह से राज्य के निचले इलाके में बाढ़ की संभावना भी जताई जा रही है। इसके अलावा भारी बारिश के चलते पुरानी और जर्जर इमारतों की वजह से हादसों की भी संभावना है। इसे लेकर मौसम विभाग की ओर से अधिकारियों को अलर्ट रहने का सिग्नल दिया गया है।

विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक, 27 जुलाई से भारी बारिश की आशंका के चलते लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि ऐसी परिस्थिति में पुराने ढांचों या मकान की दीवार ढहने की घटना से इनकार नहीं किया जा सकता। बता दें कि राज्य में बीते दिनों दीवार गिरने की वजह से कई लोग घायल हो गए थे। ऐसे हादसे में कई लोगों की जान भी चली गई थी।

इसके अलावा मौसम विभाग ने बताया कि मॉनसून के एक बार फिर ऐक्टिव होने से मुंबई और ठाणे में भारी बारिश होने की संभावना है। क्षेत्रीय मौसम विभाग के उप महानिदेशक केएस होसलिकर के मुताबिक, मध्य और उत्तर-पश्चिम भारत में एक मजबूत मॉनसून की स्थिति देखी जा रही है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top