Home > Lead Story > चौथे चरण में दो मुख्यमंत्रियों के बेटे भी ठोंक रहे ताल, सोमवार को 945 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे मतदाता

चौथे चरण में दो मुख्यमंत्रियों के बेटे भी ठोंक रहे ताल, सोमवार को 945 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे मतदाता

चौथे चरण में दो मुख्यमंत्रियों के बेटे भी ठोंक रहे ताल, सोमवार को 945 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे मतदाताआज के दौर में ईवीएम का उपयोग होता है.

नई दिल्ली। सत्रहवीं लोकसभा के गठन के लिए सोमवार को चौथे चरण का मतदान होगा। इस चरण में दो मुख्यमंत्रियों के बेटों समेत एक पूर्व मुख्यमंत्री की पत्नी समेत कई केंद्रीय मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। 29 अप्रैल को इन सब का भाग्य ईवीएम में कैद हो जाएगा। इस चरण में नौ राज्यों की 71 लोकसभा सीटों पर 12 करोड़ 79 लाख से अधिक लोग अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर 945 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। इस चरण में मतदान के लिए एक लाख 40 हजार से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

चौथे चरण के मतदान के दौरान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ छिंदवाड़ा से, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत जोधपुर से, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव कन्नौज से, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विजयंत पांडा ओडिशा की केंद्रपाडा सीट से और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बेगूसराय से चुनाव मैदान में हैं। सिंह का मुकाबला जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार से है। इसके साथ ही दिवंगत नेता सुनील दत्त की बेटी प्रिया दत्त, फिल्म अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर भी भाग्य आजमा रही हैं।

चौथे चरण में बिहार की पांच, जम्मू-कश्मीर की एक(अनंतनाग एक हिस्से में), झारखंड की तीन, मध्य प्रदेश की छह, महाराष्ट्र की 17, ओडिशा की छह, राजस्थान की 13, उत्तर प्रदेश की 13, पश्चिम बंगाल की आठ सीटों पर मतदान होगा। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में इन 71 सीटों में से भाजपा अकेले दम पर 45 सीटें जीती थी। सहयोगी दलों के साथ भाजपा के खाते में कुल 56 सीटें आई थीं। भाजपा के अलावा शिवसेना को नौ और लोजपा को दो सीटें मिली थीं।

उत्तर प्रदेश की हरदोई, शाहजहांपुर, खेड़ी, उन्नाव, मिश्रिख, कन्नौज, कानपुर, फर्रुखाबाद, इटावा, अकबरपुर, हमीरपुर, जालौन, झांसी सीट पर 2.38 लाख मतदाता हैं। इनके लिए 27513 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। यहां की 13 सीटों में 154 उम्मीदवार मैदान में हैं। फर्रुखाबाद में पूर्व विदेशमंत्री और कांग्रेस उम्मीदवार सलमान खुर्शीद की प्रतिष्ठा दांव पर है। उनका मुकाबला भाजपा उम्मीदवार मुकेश राजपूत से है। कन्नौज सीट समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाती है। इस सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव मैदान में हैं। डिंपल यादव इस सीट से मौजूदा सासंद हैं। यहां भाजपा ने सुब्रत पाठक को टिकट दिया है। उन्नाव से भाजपा ने साक्षी महराज को फिर मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने पूर्व सांसद अन्नू टंडन को और सपा-बसपा गठबंधन ने अरुण शंकर शुक्ला को टिकट दिया है।

बिहार की समस्तीपुर, दरभंगा, उजियारपुर, मुंगेर और बेगूसराय सीट पर कुल आठ करोड़ से ज्यादा मतदाता हैं और उनके लिए 8834 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। यहां की कुल पांच सीटों से 66 उम्मीदवार मैदान में हैं। बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी(आरएलएसपी) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह, लोक जनशक्ति पार्टी के रामचंद्र पासवान, बिहार के मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह सहित 66 उम्मीदवार मैदान में हैं। वहीं, झारखंड में पलामू, चतरा और लोहारदगा सीटों पर 45 लाख से ज्यादा मतदाता हैं। इनके लिए आयोग ने 3013 मतदान केन्द्र बनाए हैं। इन तीन सीटों पर 59 उम्मीदवार हैं।

उधर, मध्यप्रदेश में शहडोल, सीधी, मंडला, बालाघाट, जबलपुर और छिंदवाड़ा सीटों पर 1.05 करोड़ मतदाता हैं। यह लोग 13491 मतदान केन्द्रों में वोट डालेंगे। यहां की कुल छह सीटों पर 108 उम्मीदवार मैदान में हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ की सीट छिंदवाड़ा से इस बार उनके बेटे नकुलनाथ को टिकट दिया गया है। सीधी में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला है। इस सीट पर कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा ने पिछले दो लोकसभा चुनाव लगातार जीतने वाली सांसद रीति पाठक को फिर चुनाव मैदान में उतारा है। मंडला लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवार के लिए आरक्षित है। भाजपा ने यहां से वर्तमान सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते को मैदान में उतारा है तो कांग्रेस की तरफ से कमल मरावी चुनाव मैदान में है। बालाघाट में भाजपा के मौजूदा सांसद टिकट कटने से निर्दलीय मैदान में हैं। जबलपुर से भाजपा ने प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को मैदान में उतारा है। उनका मुकाबला कांग्रेस के विवेक तन्खा से है।

महाराष्ट्र में चौथे चरण में नासिक, पालघर, भिवंडी, कल्याण, ठाणे, मुंबई, नंदूरबार, धुले, डिंडोरी, मुंबई उत्तर-मध्य, मुंबई दक्षिण-मध्य, मुंबई दक्षिण, मावल, शिरूर, शिर्डी, मुंबई उत्तर-पश्चिम, ओडिशा की जाजपुर, केंद्रपाड़ा, जगतसिंहपुर, मयूरभंज, बालासोर, भद्रक पर 3.11 करोड़ मतदाता हैं। इनके लिए 33314 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। यहां की कुल 17 सीटों से 323 उम्मीदवार मैदान में हैं। ओडिशा के छह लोकसभा क्षेत्रों और संबंधित 42 विधानसभा क्षेत्रों के लिए मतदान होगा। इस चरण में लोकसभा की मयूरभंज, बालासोर, भद्रक, जाजपुर, केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर सीट पर मतदान होना है। राजस्थान की अजमेर, टोंक-सवाईमाधोपुर, जोधपुर, पाली, जालौर, बाड़मेर, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, भीलवाड़ा, कोटा, झालावाड़-बारां और उदयपुर सीट पर 2.57 लाख मतदाता हैं। इनके लिए 28,182 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। यहां की 13 सीटों पर कुल 115 उम्मीदवार मैदान में हैं। जोधपुर में कांटे की टक्कर तय है। प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव कांग्रेस से और केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत भाजपा के उम्मीदवार हैं। बाड़मेर में कांग्रेस के टिकट पर मानवेन्द्र सिंह मैदान में हैं। उनका मुकाबला भाजपा के कर्नल सोनाराम से है। मानवेन्द्र भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे। बारां-झालावाड़ सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बेटे दुष्यंत सिंह लगातार चौथी बार पार्टी के टिकट पर लड़ रहे हैं। उनके सामने भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए प्रमोद शर्मा हैं।

पश्चिम बंगाल की कृष्णानगर, बेहरामपुर, बर्धमान पूर्व, राणाघाट, आसनसोल, बर्धमान-दुर्गापुर, बीरभूम, बोलपुर सीट पर 1.34 करोड़ मतदाता हैं। इनके लिए चुनाव आयोग ने 15277 मतदान केन्द्र बनाए हैं। यहां की कुल आठ सीटों से 68 उम्मीदवार मैदान में हैं। पश्चिम बंगाल में प्रथम तीन चरणों के तहत 10 सीटों पर मतदान हो चुका है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 10698 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top