Home > Lead Story > पश्चिम बंगाल में पहले चरण के 18 उम्मीदवारों में से 33 फीसदी के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज

पश्चिम बंगाल में पहले चरण के 18 उम्मीदवारों में से 33 फीसदी के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज

पश्चिम बंगाल में पहले चरण के 18 उम्मीदवारों में से 33 फीसदी के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 18 उम्मीदवारों में से, 33 फीसदी ने घोषित किया द्है कि उनके खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं। यानी पहले चरण में 18 में छह उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले लंबित हैं। उम्मीदवारों द्वारा दायर किए गए हलफनामों के एक अध्ययन से यह जानकारी मिली है। एक स्वतंत्र राजनीतिक संगठन, पश्चिम बंगाल इलेक्शन वॉच द्वारा यह अध्ययन किया गया था और शुक्रवार को जारी किया गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि विश्लेषण किए गए 18 उम्मीदवारों में से 6 (33 फीसदी) ने आपराधिक मामले घोषित किए हैं। घोषित आपराधिक मामले में सूची में शीर्ष स्थान पर कूचबिहार के भाजपा उम्मीदवार नीशिथ प्रमाणिक हैं। उसने अपने खिलाफ 11 आपराधिक मामले घोषित किए हैं और आईपीसी की 21 गंभीर धाराओं के तहत दर्ज किया है, जिसमें हत्या (धारा 302), हत्या का प्रयास (धारा 307), महिला के साथ मारपीट या यौन उत्पीड़न (354) शामिल है।

प्रमाणिक के बाद एक अन्य भाजपा उम्मीदवार जॉन बार्ला हैं, जिन्हें अलीपुरद्वार लोकसभा सीट से मैदान में उतारा गया है। उनके खिलाफ नौ आपराधिक मामले दर्ज हैं और आईपीसी की 29 गंभीर धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है, जिसमें हत्या के प्रयास और स्वेच्छा से लोक सेवक को अपने कर्तव्य (धारा 333) से रोकने के लिए चोट पहुंचाना शामिल है।

अध्ययन में यह भी पता चला कि 18 उम्मीदवारों में से आठ ने अपने आयकर रिटर्न विवरण को घोषित नहीं किया है। इनमें दो तृणमूल कांग्रेस से, दो भाजपा से, दो कांग्रेस से, एक फॉरवर्ड ब्लॉक से और एक निर्दलीय हैं।

11 अप्रैल को पहले चरण का चुनाव कूचबिहार और अलीपुरद्वार लोकसभा सीटों पर होगा। कूचबिहार में मतदाताओं की कुल संख्या 18,10,658 है, वहीं अलीपुरद्वार में 16,43,616 मतदाता हैं। मतदान 3,844 मतदान केंद्रों में होगा।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top