Home > राज्य > मध्यप्रदेश > गुना > 76 हजार के ईनामी पुलिस गिरफ्त में

76 हजार के ईनामी पुलिस गिरफ्त में

76 हजार के ईनामी पुलिस गिरफ्त में

चार है बदमाश, कई गंभीर वारदातों में थी तलाश

गुना/निज प्रतिनिधि। फरार बदमाशों की धरपकड़ में जुटी पुलिस को एक और सफलता मिली है। सफलता जिले की धरनावदा पुलिस के खाते में दर्ज हुई है। जिसमें 76 हजार के तीन पारदियों को पकड़ा गया है। इन पारदियों पर हत्या, लूट, डकैती सहित कई गंभीर अपराध थे और पुलिस लंबे समय से इनकी तलाश कर रही थी। पुलिस महानिरीक्षक राजाबाबू सिंह ने पत्रकारवार्ता में बताया कि इन बदमाशों के कब्जे से एक 315 बोर का कट्टा, 2 जिंदा राउण्ड एवं दो धारदार हथियार सहित एक चोरी की बाइक जब्त की गई है। इसके साथ ही एक अन्य पारदी बदमाश को भी गिरफ्तार किया गया है।

अलग-अलग स्थानों से दबोचे बदमाश

श्री सिंह ने बताया कि तीनों बदमाशों को अलग-अलग स्थानों से दबोचा गया है। जिसमें रनौतिया की पुलिया से कुख्यात बदमाश शेरु पारदी तो चौड़ाखेड़ी रेलवे स्टेशन से मोहन पारदी को पकड़ा गया है। इसी तारतम्य में जैकी पारदी को मुखबिर की सूचना पर पकड़ा गया है। श्री सिंह के अनुसार इनमें से शेरु पारदी को काफी मशक्कत के बाद पकड़ा गया है।

अन्य राज्यों में भी की वारदात

श्री सिंह ने बताया कि तीनों बदमाश कुख्यात है और इन्होने प्रदेश के साथ ही अन्य राज्यों में भी हत्या, लूट और डकैती जैसी गंभीर वारदातों को अंजाम दिया है। शेरु पारदी के ऊपर कुल 27 मामले दर्ज है और यह सालों से फरार चल रहा था। इस पर 14 साल पहले 2005 में 5 हजार का ईनाम घोषित क्यिा गया था। 10 हजार का ईनाम गुना एसपी ने और 5 हजार का ग्वालियर एसपी ने घोषित किया था। इसके साथ ही मोहन पारदी पर एक दर्जन अपराध दर्ज है। इनमें हत्या के प्रयास लूट, नकबजनी सहित एक मामला पुलिस पार्टी पर हमले का भी दर्ज है। यह हमला धरनावदा पुलिस पर किया गया था। श्री सिंह ने बताया कि इसके साथ ही पकड़े गए एक अन्य बदमाश जैकी पारदी पर दो मामले दर्ज है।

हड्डी मिल से किया था गिरफ्तार

एक अन्य बदमाश सिकंदर पुत्र बालचंद पारदी की गिरफ्तारी का खुलासा भी पुलिस ने किया है। सूत्र बताते है कि इस बदमाश को करीब चार दिन पहले शहर कोतवाली पुलिस ने हड्डी मिल क्षेत्र से गिरफ्तार किया था। बदमाश पर राजस्थान के गंगानगर में हुई वारदात में शामिल होने का आरोप है, जिसमें दो आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।

Naveen ( 1696 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top