Home > शिक्षा > व्यक्तित्व विकास > जीएलए का पाॅलीटेक्निक संस्थान यूपी में नंवर वन

जीएलए का पाॅलीटेक्निक संस्थान यूपी में नंवर वन

पुणे में आयोजित उच्च शिक्षा समिट में प्लेसमेंट, प्रोजेक्टस, लैब इंफ्रास्ट्रक्चर सहित कई मानकों की कसौटी पर उतरा खरा

जीएलए का पाॅलीटेक्निक संस्थान यूपी में नंवर वन

मथुरा। पुणे में सीईजीआर द्वारा आयोजित पांचवीं उच्च शिक्षा समिट में वर्ष 2019 के मूल्यांकन में श्रेष्ठता के आधार पर जीएलए विश्वविद्यालय मथुरा के पाॅलीटेक्निक संस्थान को उ.प्र. के सर्वश्रेष्ठ संस्थान के अवार्ड से नवाजा गया है। संस्था ने प्लेसमेंट, प्रोजेक्टस, लैब इंफ्रास्ट्रक्चर, शिक्षकों की गुणवत्ता, इण्डस्ट्रियल ट्रेेनिंग, अपग्रेडेड तथा इंडस्ट्री रेडी पाठ्यक्रम जैसे कई मानकों की कसौटी पर यूपी के संस्थानों को कसा। इस परीक्षण में जीएलए विश्व विद्यालय का पाॅलीटैक्निक संस्थान नंवर वन साबित हुआ है। इसमें विभिन्न प्रदेशों के पाॅलीटेक्निक संस्थानों के प्राचार्य उपस्थित हुए। इसमें उ.प्र. से जीएलए पाॅलीटेक्निक संस्थान को सर्वश्रेष्ठ संस्थान का अवार्ड प्राप्त हुआ।

प्राचार्य डाॅ. दिवाकर भारद्वाज ने यह अवार्ड राष्ट्रीय एक्रिडेशन बोर्ड के चेयरमैन प्रो. केके अग्रवाल से प्राप्त किया। हम आपको बता दें कि सेंटर फाॅर एजुकेशन ग्रोथ एण्ड रिसर्च (सीईजीआर) एक राष्ट्रीय स्तर की संस्था है, जो प्रतिवर्ष देश भर में स्थित उच्च शिक्षा संस्थानों का मूल्यांकन कर उनकी रैकिंग करती है। इसी संस्था के द्वारा वर्ष 2017 में भी जीएलए पाॅलीटेक्निक को प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ संस्थान के खिताब से नवाजा गया था।

उन्होंने बताया कि गोष्ठी में उपस्थित बोर्ड के चेयरमैन प्रो. अग्रवाल ने संस्था की गुणवत्ता परखने के लिये उनके एक्रिडेशन प्रक्रिया तथा लाभों के बारे में विस्तृत चर्चा की। प्रो. भारद्वाज ने बताया कि यह अवार्ड विश्वविद्यालय प्रबंधन के विजन तथा संस्थान में कार्यरत शिक्षकों तथा अध्ययनरत छात्रों के परिश्रम के कारण ही सम्भव हो पाया है। प्रबन्धन की ओर से कुलपति आनन्द मोहन अग्रवाल ने हर्ष व्यक्त करते हुए सभी को शुभकामनायें दी।

स्वदेश मथुरा ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Share it
Top