Home > अर्थव्यवस्था > आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर शोध के लिए आईआईटी दिल्ली ने आईबीएम के साथ किया समझौता

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर शोध के लिए आईआईटी दिल्ली ने आईबीएम के साथ किया समझौता

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर शोध के लिए आईआईटी दिल्ली ने आईबीएम के साथ किया समझौता

नई दिल्ली। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली ने दुनिया की सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंटरनेशनल बिजनेस मशीन कार्पोरेशन (आईबीएम) के साथ कृत्रिम बुद्धिमत्ता (आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस या एआई) के क्षेत्र में शोध कार्य के लिए गुरुवार को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

अभी एआई सिस्टम को निर्णय लेने की प्रक्रिया को समझाने के लिए प्रशिक्षित नहीं किया गया है। आईबीएम शोधकर्ता इस मुद्दे को हल करने के लिए आईआईटी दिल्ली में कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग के छात्रों और प्रोफेसरों के साथ साझेदारी करेंगे और एआई सिस्टम में तर्क, समझ और संदर्भ जैसे कुछ प्रमुख लक्षणों को लागू करने के लिए संयुक्त शोध करेंगे। इसका उद्देश्य एआई तकनीकों को खोजना है, जो संगठनों को उनके एआई सिस्टम के साथ तार्किक कारणों से तर्कसंगत निर्णय लेने में मदद कर सकते हैं। एआई समाधानों को प्राकृतिक भाषा तकनीकों का इस्तेमाल करके जटिल प्रश्नों को समझने और डोमेन ज्ञान का उपयोग करके नई अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षित करेगा।

इस मौके पर आईबीएम रिसर्च के ग्लोबल लैब्स के उपाध्यक्ष माइकल करसिक ने कहा एआई सिस्टम के साथ काम करते समय, संगठनों को एक विशेष निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए स्पष्ट तर्क और समझ की आवश्यकता होती है। हम मानते हैं कि एआई में प्रगति ऐसी समस्याओं से निपट सकती है। उन्होंने कहा कि हम अनुसंधान के इस क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करने के लिए आईआईटी दिल्ली के साथ सहयोग करने के लिए उत्साहित हैं और संगठनों को अपने एआई सिस्टम में तर्क, समझ और पारदर्शिता जैसी प्रमुख विशेषताओं को शामिल करके सूचित निर्णय लेने के लिए सशक्त हैं।

आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रोफेसर वी रामगोपाल राव ने सहयोग की प्रासंगिकता पर जोर देते हुए कहा भारत में एआई और संबंधित प्रौद्योगिकियों में नवाचार में तेजी लाने के लिए अत्यधिक प्रतिभा है। हम आईबीएम रिसर्च वैज्ञानिकों के साथ सहयोग करने में खुश हैं और हमारे छात्रों और संकाय सहयोगियों को एआई के आसपास की कुछ जटिल समस्याओं पर काम करने और वास्तविक दुनिया परिदृश्यों के समाधान लागू करने के अवसर प्रदान करते हैं।

Tags:    

Swadesh News ( 5164 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top