Home > देश > फिर उजागर हुआ कांग्रेस का राष्ट्रविरोधी चेहरा

फिर उजागर हुआ कांग्रेस का राष्ट्रविरोधी चेहरा

जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद कांग्रेस ने एक बार फिर से अपना राष्ट्रविरोधी चेहरा उजागर कर दिया है।

लश्कर ने गुलाम नबी का, सोज ने मुशर्रफ का किया समर्थन

नई दिल्ली । जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद कांग्रेस ने एक बार फिर से अपना राष्ट्रविरोधी चेहरा उजागर कर दिया है। यह पहला मौका नहीं है जब कांग्रेस नेताओं ने पाकिस्तान के प्रति अपना प्रेम उजागर किया है। कभी इस पार्टी के नेता आतंकवादियों के नाम के आगे जी शब्द लगाकर सम्मान देते हैं तो कभी पाकिस्तान जाकर भाजपा सरकार को गिराने के लिए मदद मागंते हैं, पत्थरबाजों पर पैलेट गन के उपयोग का विरोध करते हैं, सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी बताकर सेना का अपमान करते हैं, सेनाध्यक्ष को गुंडा बोलते हैं।

ताजा उदाहरण कांग्रेस के दो नेताओं का है। कांग्रेस के सैफउद्दीन सोज ने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के बयान का समर्थन करते हुए कहा है कि कश्मीर के लोग आजादी चाहते हैं, जबकि कांग्रेस के एक अन्य नेता गुलाम नबी आजाद ने तो कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा चलाये जा रहे आपरेशन पर सवाल ख्रड़े करते हुए कहा है कि सेना के इस आपरेशन से आतंकी नहीं आम जनता ज्यादा मारी जा रही है।

गुलाम नबी आजाद के इस बयान का तो आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा ने भी समर्थन किया। इस बयान को सही ठहराते हुए इस संगठन के प्रवक्ता अब्दुल्ला गजनवी ने कहा कि कश्मीर में सेना द्वारा कश्मीरियों को तड़पाया जा रहा है। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद ने सेना के ऑपरेशन का विरोध करते हुए भारतीय सेना को नरसंहार करने वाला हत्यारा बता दिया है। वहीं कांग्रेस नेता सैफउद्दीन सोज कहा कि कश्मीरियों को आजादी चाहिए और भारत से आजाद कर कश्मीर को अलग कर देना चाहिए। गुलाम नबी आजाद के बयान का जहां पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा ने प्रेस रिलीज कर प्रशंसा की है, वहीं सैफउद्दीन सोज के बयान का पाकिस्तान में स्वागत किया जा रहा है। साफ है कि दोनों ही बयान जहां भारतीय सेना का हौसला गिराने वाला है वहीं पाकिस्तान को खुश करने वाला है।

इससे पहले भी दिग्विजय सिंह, सलमान खुर्शीद, पी चिदंबरम और शशि थरूर जैसे कई नाम हैं जो पाकिस्तान से भारत की तुलना कर देश को बदनाम करने की राजनीति करते रहे हैं। कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी को भी पाकिस्तान पसंद है।17 मई, 2018 को छत्तीसगढ़ की एक सभा में उन्होंने भारतीय न्यायपालिका की तुलना पाकिस्तान की न्यायपालिका से कर दी। जाहिर है कांग्रेस की यह पाकिस्तान परस्ती नई नहीं है, बल्कि दशकों से कांग्रेस की राजनीति पाकिस्तान परस्ती यानि मुस्लिम परस्ती की रही है।

आतंकियों की भाषा बोल रही कांग्रेस

इस पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, कांग्रेस सेना का मनोबल कम कर रही है। अगर कांग्रेस को 44 से 14 लोकसभा सीटों पर आना है तो उसे मुबारक। कांग्रेस नेताओं को पाकिस्तान से खूब समर्थन मिल रहा है। हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए तारीक हमीद कारा की भाषा तो वही है जो पाकिस्तान के आतंकियों की रही है। इस मुद्दे पर एक ओर से भाजपा और दूसरी तरफ से शिवसेना ने कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया है। भाजपा नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने सोज के बयान की आलोचना की है। उधर शिवसेना की नेता मनीषा कायांदे का कहना है कि इस मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को जवाब देना चाहिए।



Swadesh Digital ( 7996 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top