Home > देश > अब नवरात्र से पहले निपटा ले सब काम, चार दिन तक बैंक रहेंगे बंद

अब नवरात्र से पहले निपटा ले सब काम, चार दिन तक बैंक रहेंगे बंद

-10 बैंकों का विलयकर 4 बैंक बनाने के विरोध में हड़ताल की घोषणा

अब नवरात्र से पहले निपटा ले सब काम, चार दिन तक बैंक रहेंगे बंद

सुपौल। अगर इस सप्ताह आपका कोई बैंकिंग संबंधी कार्य है तो तीन दिनों में निपटा लें क्योंकि इसके बाद आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। सितम्बर के इस आखिरी सप्ताह में चार दिन बैंक बंद रहेंगे। इस दौरान दशहरा को लेकर खरीददारी भी शुरु हो जाएगी।

दरअसल 29 सितम्बर से शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो रही है, लेकिन इससे पूर्व ही बैंक अधिकारियों के चार शीर्ष संगठनों ने संयुक्त रूप से दो दिवसीय हड़ताल की घोषणा की है। इसकी वजह से 26 और 27 सितम्बर को सभी राष्ट्रीयकृत बैंक बंद रहेंगे। हालांकि हड़ताल से निजी बैंक बाहर हैं, लेकिन ऐसा पहली बार नहीं हुआ है।

सरकारी बैंकों के अधिकारियों की टीम हर बार हड़ताल के दौरान निजी बैंकों से भी सहयोग की अपील करती है और फिर वहां भी ताला लटक जाता है। जाहिर है कि हड़ताल के इन दो दिनों में निजी बैंक भी बंद रहेंगे। 28 सितम्बर को माह का चौथा शनिवार और 29 को रविवार होने की वजह से बैंकों में अवकाश रहेगा।

देशभर के सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों के अधिकारियों के संगठन ने 25 सितम्बर की मध्य रात्रि से 27 सितम्बर की मध्य रात्रि तक हड़ताल की घोषणा की है। बैंक अधिकारियों का संगठन सार्वजनिक क्षेत्र के 10 बैंकों का विलय कर चार बैंक बनाने के केंद्र सरकार के फैसले का विरोध कर रहे हैं। सरकार ने बीते 30 अगस्त को ही इसकी घोषणा की थी।

हड़ताल की घोषणा करने वाले बैंक अधिकारियों के संगठन का कहना है कि बैंकों के विलय के इस फैसले से बेरोजगारी की समस्या बढ़ेगी। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन(एआईबीओसी), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन (एआईबीओए), इंडियन नेशनल बैंक ऑफिसर्स कांग्रेस(आईएनबीओसी) और नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स(एनओबीओ) ने संयुक्त रूप से हड़ताल का नोटिस दिया है। इसके अलावा बैंक यूनियनों की पांच दिन का सप्ताह करने और नकद लेनदेन के घंटों और विनियमित कार्य घंटों को कम करने की भी मांग की है।

यूनियनों ने सतर्कता से संबंधित मौजूदा प्रक्रियाओं में बाहरी एजेंसियों का हस्तक्षेप रोकने, सेवानिवृत्त कर्मचारियों से संबंधित मुद्दों को सुलझाने, पर्याप्त भर्तियां करने, एनपीएस को समाप्त करने, उपभोक्ताओं के लिए सेवा शुल्क कम करने तथा बेतहर प्रदर्शन नहीं करने के नाम पर अधिकारियों को परेशान नहीं करने की मांग की है। साथ ही स्पष्ट किया है कि मांगों की पूर्ति नहीं होने पर नवंबर माह के दूसरे सप्ताह से राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते हैं। फिलहाल हड़ताल व छुट्‌टी की वजह से 25 सितम्बर के बाद बैंक 30 सितम्बर को ही खुलेंगे। ऐसे में एटीएम में भी कैश की किल्लत होने की संभावना है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top