Home > देश > दलित-महिला उत्थान के प्रेरणापुंज थे ज्योतिबा फुले : वेंकैया नायडु

दलित-महिला उत्थान के प्रेरणापुंज थे ज्योतिबा फुले : वेंकैया नायडु

दलित-महिला उत्थान के प्रेरणापुंज थे ज्योतिबा फुले : वेंकैया नायडु

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु ने गुरुवार को प्रसिद्ध समाज सुधारक ज्योतिबा फुले को उनकी 192वीं जयंती पर याद करते हुए कहा कि वह दलित एवं महिला उत्थान के प्रेरणापुंज थे।

वेंकैया नायडु ने कहा," महात्मा ज्योतिबा फुले जी की जयंती के अवसर पर उनकी पुण्य स्मृति में श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं। आप और आपकी पत्नी सावित्रीबाई फुले, समाज के दुर्बल वर्गों, दलितों और महिलाओं की शिक्षा और सशक्तिकरण के प्रेरणापुंज थे जिन्होंने एक जन आंदोलन को प्रेरित किया।

महाराष्ट्र में सितम्बर 1873 में गठित 'सत्य शोधक समाज' संस्था का उल्लेख करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि सत्यशोधक समाज के माध्यम से एक सच्चे और मानवीय समाज की स्थापना की दिशा में आपके प्रयास वंदनीय हैं। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।"

उल्लेखनीय है कि महात्मा ज्योतिबा फुले का जन्म 11 अप्रैल 1827 को पुणे में हुआ था। वह महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। उन्होंने महाराष्ट्र में सर्वप्रथम महिला शिक्षा तथा अछूतोद्धार का काम आरंभ किया था। उन्होंने पुणे में लड़कियों के लिए भारत का पहला विद्यालय खोला। इस महान समाजसेवी ने अछूतोद्धार के लिए सत्यशोधक समाज स्थापित किया था। उनका यह भाव देखकर 1888 में उन्हें 'महात्मा' की उपाधि दी गई थी। फुले की मृत्यु 28 नवंबर 1890 को पुणे में हुई।

Tags:    

Swadesh Digital ( 7996 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top