Home > देश > जम्मू-कश्मीर में चार दशक में आठवीं बार राज्यपाल शासन

जम्मू-कश्मीर में चार दशक में आठवीं बार राज्यपाल शासन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से मंजूरी मिलने के बाद जम्मू - कश्मीर में बुधवार को तत्काल प्रभाव से राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया है।

जम्मू-कश्मीर में चार दशक में आठवीं बार राज्यपाल शासन

नई दिल्ली | राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से मंजूरी मिलने के बाद जम्मू - कश्मीर में बुधवार को तत्काल प्रभाव से राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया है। गौरतलब है कि बेहद आश्चर्यजनक तरीके से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को खुद को प्रदेश की सत्तारूढ़ भाजपा-पीडीपी गठबंधन सरकार से अलग कर लिया था। इसके बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दे दिया। भाजपा ने सरकार से समर्थन वापस लेते हुए कहा था कि राज्य में बढ़ती कट्टरता और आतंकवाद के बीच सरकार में बने रहना असंभव हो गया है। मुख्यमंत्री के इस्तीफे के बाद राज्यपाल एनएन वोहरा ने राष्ट्रपति को भेजे गए एक पत्र में राज्य में केंद्र का शासन लागू करने की सिफारिश की थी। इसकी एक प्रति केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी भेजी गई थी।

राष्ट्रपति ने वोहरा की सिफारिश को मंजूरी दे दी है, जिसके बाद बुधवार को तत्काल प्रभाव से प्रदेश में राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया है। बीते चार दशक में यह आठवीं बार है जब राज्य में राज्यपाल शासन लगा है। गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, 'राष्ट्रपति ने जम्मू-कश्मीर में तत्काल प्रभाव से राज्यपाल शासन लगाने की मंजूरी दे दी है। जम्मू-कश्मीर में मंगलवार रात भर राजनीतिक घटनाक्रम जारी रहा। जब राज्यपाल एनएन वोहरा ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति भवन को भेजी उस वक्त राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद विमान में थे।

राज भवन के एक प्रवक्ता ने मंगलवार रात श्रीनगर में बताया, 'सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के साथ विचार विमर्श करने के बाद राज्यपाल ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति को भेज दी है जिसमें उन्होंने जम्मू-कश्मीर के संविधान की धारा 92 के तहत राज्यपाल शासन लागू करने की सिफारिश की है। राष्ट्रपति ने रिपोर्ट को देखने के बाद अपनी मंजूरी दे दी और इस बाबत बुधवार सुबह छह बजे केंद्रीय गृह मंत्रालय को सूचित किया गया। इसके बाद राज्यपाल शासन लगाने की प्रक्रिया तैयार की गई और इसे श्रीनगर भेजा गया।

बी वी आर सुब्रमण्यम बने राज्य के मुख्य सचिव

जम्मू-कश्मीर में भाजपा और पीडीपी के गठबंधन की सरकार गिरने के बाद आईएएस अधिकारी बी वी आर सुब्रमण्यम को कश्मीर का मुख्य सचिव बनाया गया है। इससे पहले इसी के साथ विजय कुमार को राज्यपाल का सलाहकार नियुक्त किया गया है। छत्तीसगढ़ गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम को जम्मू और कश्मीर भेजा गया था। बीवीआर सुब्रमण्यम अब मुख्य सचिव जम्मू और कश्मीर की जिम्मेदारी संभालेंगे। सुब्रमण्यम 1987 बैच के आईएएस हैं। सुब्रमण्यम मनमोहन सिंह के कार्यकाल में केंद्र में संयुक्त सचिव रह चुके हैं। वह पिछले तीन साल से छत्तीसगढ़ में गृह सचिव के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे।

कब-कब लगा राज्यपाल शासन

पहली बार : 26 मार्च 1977 से 9 जुलाई 1977 तक, 105 दिनों के लिए।

दूसरी बार : 6 मार्च 1986 से 7 नवंबर 1986 तक, 246 दिनों के लिए।

तीसरी बार : 19 जनवरी 1990 से 9 अक्टूबर 1996 तक, छह साल 264 दिनों के लिए।

चौथी बार : 18 अक्टूबर 2002 से 2 नवंबर 2002 तक, 15 दिनों के लिए।

पांचवी बार : 11 जुलाई 2008 से 5 जनवरी 2009 तक, 178 दिनों के लिए।

छठवीं बार : 9 जनवरी 2015 से 1 मार्च 2015 तक, 51 दिनों के लिए।

सातवीं बार : 8 जनवरी 2016 से 4 अप्रैल 2016 तक, 87 दिनों के लिए।

आठवीं बार : 19 जून 2018 से अब तक।




Swadesh Digital ( 7862 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top