Home > देश > जयंती पर याद की गयीं भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी

जयंती पर याद की गयीं भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी

केन्द्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि

जयंती पर याद की गयीं भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी

नई दिल्ली। भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी गोपाल जोशी की आज 154वीं जयंती है। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने उनको याद किया है। रविवार को डॉ हर्षवर्धन ने अपने ट्विटर पर लिखा, 'देश की पहली महिला डॉक्टर व भारतीय बालिकाओं की प्रेरणास्रोत आनंदी गोपाल जोशी जी की 154वीं जयंती पर शत शत नमन। कुशाग्र बुद्धि की धनी आनंदी जी की पढ़ाई में रूचि इतनी गहरी थी कि उन्होंने मात्र 20 वर्ष की उम्र में ही डॉक्टरी की डिग्री हासिल कर ली थी।'

आनंदी गोपाल जोशी का जन्म पुणे में 31 मार्च 1865 को हुआ था। उनका विवाह नौ वर्ष की उम्र में उनसे करीब 20 वर्ष बड़े गोपाल राव से हुआ था। वह 14 साल की उम्र में मां बनीं थीं लेकिन उनकी एक मात्र संतान की मृत्‍यु मात्र दस दिन के भीतर ही हो गयी थी। इस घटना ने उनके जीवन को नयी दिशा दी। अपने बच्चे को खोकर उन्होंने प्रण किया कि वह डॉक्‍टर बनेंगी और लोगों का इलाज करेंगी ताकि किसी की असमय मौत ना हो। आनंदी जोशी महिलाओं के लिए आदर्श हैं। जिस वक्त समाज अनगिनत वर्जनाओं में घिरा था। उस वक्त एक शादीशुदा हिन्दू स्‍त्री होते हुए उन्होंने अमेरिका के पेनिसिल्‍वेनिया में जाकर डॉक्‍टरी की पढ़ाई की। वह मात्र 22 वर्ष की उम्र में डॉक्टर बन गयी थीं | विदेश से लौटने के बाद उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया और उनकी 26 फ़रवरी 1887 को मृत्यु हो गई।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top