Home > देश > अर्थव्यवस्था की रीढ़ होते हैं उपभोक्ता

अर्थव्यवस्था की रीढ़ होते हैं उपभोक्ता

अर्थव्यवस्था की रीढ़ होते हैं उपभोक्ता

नई दिल्ली। केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि उपभोक्ता अर्थव्यवस्था की रीढ़ होता है। बिना उपभोक्ता के अर्थव्यवस्था को गति नहीं मिल सकती।

डॉ हर्ष वर्धन ने शुक्रवार को विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस के अवसर पर अपने ट्विटर के माध्यम से कहा कि उपभोक्ता को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक रहना चाहिए। किसी भी देश के विकास में उपभोक्ता की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। बिना उपभोक्ता के अर्थव्यवस्था को मजबूत रखना संभव नहीं है। ऐसे में इनके अधिकारों की रक्षा होनी चाहिए।

उल्लेखनीय है कि दुनियाभर में 15 मार्च को विश्व उपभोक्ता दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर उपभोक्ताओं के मूलभूत अधिकारों की रक्षा करने के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। यह दिवस उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए अमेरिका में 15 मार्च 1983 पहली बार मनाया गया था। भारत में प्रत्येक 24 दिसम्बर को राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस मनाया जाता है। भारत में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम विधेयक दिसम्बर 1986 को पारित हुआ था।

Tags:    

Swadesh Digital ( 7036 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top